ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशसपा उम्‍मीदवारों की दो लिस्‍ट में अखिलेश ने दिखाई पीडीए की झलक, कितना कारगर होगा ये फॉर्मूला  

सपा उम्‍मीदवारों की दो लिस्‍ट में अखिलेश ने दिखाई पीडीए की झलक, कितना कारगर होगा ये फॉर्मूला  

अखिलेश ने सपा उम्मीदवारों की 2 सूची जारी कर यह साफ कर दिया कि वह PDA (पिछड़ा, दलित और मुस्लिम) के सहारे ही लोकसभा चुनाव में दमखम दिखाएगी। सपा ने 20 दिन में 2 सूची में 27 उम्मीदवारों की घोषणा की है।

सपा उम्‍मीदवारों की दो लिस्‍ट में अखिलेश ने दिखाई पीडीए की झलक, कितना कारगर होगा ये फॉर्मूला  
Ajay Singhशैलेंद्र श्रीवास्तव,लखनऊTue, 20 Feb 2024 08:19 AM
ऐप पर पढ़ें

Lok Sabha Elections-2024: समाजवादी पार्टी ने उम्मीदवारों की दो सूची जारी कर यह पूरी तरह से साफ कर दिया है कि वह पीडीए (पिछड़ा, दलित और मुस्लिम) के सहारे ही लोकसभा चुनाव में दमखम दिखाएगी। सपा द्वारा 20 दिन के अंदर जारी दो सूची में 27 उम्मीदवारों की घोषणा की है। अब तक घोषित कुल उम्मीदवारों में ओबीसी 15, दलित छह, मुस्लिम दो, क्षत्रिय दो और खत्री दो उम्मीदवार उतारे हैं। लब्बोलुआब यह कि पीडीए को पूरी तवज्जो दी गई है।

पुरानों पर जता रहे भरोसा
सपा मुखिया लोकसभा चुनाव में पार्टी के पुराने और जिताऊ उम्मीदवारों पर अधिक भरोसा अभी तक जताते हुए दिख रहे हैं। गोंडा से सपा के संस्थापक सदस्यों में रहे बेनी प्रसाद वर्मा की पोती को टिकट देकर यह साफ कर दिया है कि उन्हें भी अपने पिता मुलायम सिंह यादव की तरह पार्टी के पुराने लोगों पर ही भरोसा है। बेनी गोंडा से सांसद रह चुके हैं और इसके तराई क्षेत्रों में कुर्मी आबादी ठीक-ठाक है। हरदोई से उषा वर्मा और मिश्रिख से रामपाल राजवंशी भी इसी के उदाहरण हैं। गाजीपुर से मुख्तार अंसारी के बड़े भाई अफजाल को टिकट देना भी इसी से जोड़कर देखा जा रहा है। अफजाल पहले भी सपा में रहे हैं और गाजीपुर से सांसदी जीत चुके हैं।

85 फीसदी पर नजर
यूपी के चुनाव में दलित, ओबीसी और मुस्लिम हमेशा निर्णायक स्थिति में रहे हैं। सभी पार्टियां इन्हीं वर्गों के सहारे मैदान मारने की चाहत में रहती हैं। अखिलेश ने एनडीए के जवाब में ‘पीडीए’ का नारा दिया है। राज्यसभा चुनाव में दो अगड़ी जातियों को टिकट देने के बाद सपा मुखिया पर पीडीए की अनदेखी के आरोप लगे थे, लेकिन लोकसभा चुनाव के लिए अब तक जारी सूची में सर्वाधिक पीडीए पर भरोसा जता कर उन्होंने यह साफ कर दिया है कि उनकी नजर 85 फीसदी वोट पर है।  

पहले सूची- 16
- ओबीसी 11, चार कुर्मी, तीन यादव, दो शाक्य, एक-एक पाल व निषाद
- दलित- एक
- मुस्लिम- एक
- क्षत्रिय- एक
- खत्री- दो

दूसरी सूची-11
- ओबीसी- चार, कुर्मी दो, जाट व मौर्य एक-एक
- दलित- पांच
- मुस्लिम- एक
- क्षत्रिय- एक

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें