ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशअखिलेश यादव ने करहल सीट से दिया इस्तीफा, छोड़ा नेता प्रतिपक्ष पद, कन्‍नौज के सांसद बने रहेंगे

अखिलेश यादव ने करहल सीट से दिया इस्तीफा, छोड़ा नेता प्रतिपक्ष पद, कन्‍नौज के सांसद बने रहेंगे

कन्नौज लोकसभा सीट से जीतने के बाद सपा प्रमुख अखिलेश यादव ने करहल विधानसभा सीट से इस्तीफा दे दिया है। वहीं फैजाबाद लोकसभा सीट से जीते अवधेश ने भी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है।

अखिलेश यादव ने करहल सीट से दिया इस्तीफा, छोड़ा नेता प्रतिपक्ष पद, कन्‍नौज के सांसद बने रहेंगे
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊWed, 12 Jun 2024 02:21 PM
ऐप पर पढ़ें

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव ने कन्नोज लोकसभा सीट पर जीत के बाद अब करहल विधानसभा से सदस्यता पद से इस्तीफा दे दिया है। विधानसभा कार्यालय में इस्तीफा की कॉपी रिसीव करवा दी गई है। अखिलेश यादव ने नेता प्रतिपक्ष का पद भी छोड़ दिया। वह कन्नौज से सांसद बने रहेंगे। वहीं फैजाबाद लोकसभा सीट से चुनाव जीतने अवधेश यादव ने भी विधानसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया है। ऐसे में इन दोनों सीटों पर उपचुनाव होना तय हो गया है। इसके साथ ही नेता प्रतिपक्ष भी अब चुना जाएगा।

सपा प्रमुख अखिलेश यादव इस बार 2024 लोकसभा चुनाव में कन्नौज संसदीय सीट से सांसद चुने गए हैं, जबकि 2022 के विधानसभा चुनाव में वह मैनपुरी जिले के करहल विधानसभा क्षेत्र से विधायक थे। वह वर्तमान में यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष की भूमिका में भी थे। चूंकि वह सीट पर ही रह सकते हैं। ऐसे में आज उन्होंने करहल सीट से उन्होंने इस्तीफा दे दिया। इसके साथ नेता प्रतिपक्ष पद भी छोड़ दिया है। अब करहल विधानसभा पर उपचुनाव कराया जाएगा। इस बीच उम्मीदवार के नाम को लेकर भी चर्चा तेज हो गई। कहा जा रहा है कि इसके लिए मुलायम सिंह यादव के पोते तेज प्रताप सिंह यादव को उम्‍मीदवार बनाया जा सकता है। 

नेता प्रतिपक्ष के नाम को लेकर चर्चाएं

अखिलेश यादव के इस्तीफ के बाद अब यूपी विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष के नाम को लेकर चर्चाएं  तेज हो गई है। नेता प्रतिपक्ष की ओर से समाजवादी पार्टी में इंद्रजीत सरोज, राम अचल राजभर, कमाल अख्तर और शिवपाल सिंह यादव का नाम प्रमुख रूप से सुर्खियों में बना हुआ है। अखिलेश यादव ने कहा कि इस महत्वपूर्ण पद की जिम्मेदारी पार्टी किसी ऐसे व्यक्ति को देगी जो पार्टी को मजबूती देने के साथ-साथ विपक्ष की आवाज को सदन में बुलंद कर सके।