Sunday, January 23, 2022
हमें फॉलो करें :

मल्टीमीडिया

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशवायु प्रदूषण पर वार: अलीगढ़ में अब सिर्फ मार्च से जून तक चलेंगे ईंट भट्ठे, NGT ने 50 की जांच का दिया आदेश

वायु प्रदूषण पर वार: अलीगढ़ में अब सिर्फ मार्च से जून तक चलेंगे ईंट भट्ठे, NGT ने 50 की जांच का दिया आदेश

कार्यालय संवाददाता,अलीगढ़Sneha Baluni
Thu, 02 Dec 2021 06:00 AM
वायु प्रदूषण पर वार: अलीगढ़ में अब सिर्फ मार्च से जून तक चलेंगे ईंट भट्ठे, NGT ने 50 की जांच का दिया आदेश

इस खबर को सुनें

नेशनल ग्रीन ट्रिब्यूनल (एनजीटी) ने दिल्ली-एनसीआर की तर्ज पर अब अलीगढ़ में भी ईंट भट्टों के संचालन पर सख्त आदेश जारी कर दिए हैं। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के मानकों को पूरा करने वाले ईंट भट्ठे मार्च से जून तक संचालित होंगे। गंगीरी व कौडियागंज के 50 ईंट भट्ठों जांच के आदेश एनजीटी ने जारी किया है। सीपीबी, जिला मजिस्ट्रेट अलीगढ़ व स्थानीय प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड को गंगीरी के ईंट भट्टों की उच्च स्तरीय जांच के निर्देश दिए हैं। 

एनजीटी ने शिकायतकर्ता झम्मनलाल गौतम द्वारा दाखिल की गई रिट पर सुनवाई करते हुए वायु प्रदूषण को लेकर कड़े आदेश जारी किए हैं। एनजीटी ने स्पष्ट किया है कि वायु प्रदूषण फैलाने वाले व पुरानी तकनीक से संचालित होने वाले ईंट भट्ठे नहीं चलेंगे। वैध ईंधन, प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड की एनओसी, जिगजैग तकनीक अपनाने वाले ईंट भट्ठे मार्च 2022 से जून 2022 तक संचालित होंगे। 

प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के पास आदेश आ चुका है। इसका अध्ययन चल रहा है। एनजीटी ने यह भी कहा है कि पीएनजी व सीएनजी से ईंट भट्ठों का संचालन किया जाए। संचालकों ने जनवरी से भट्ठे चलाने की रणनीति बनाई थी। अलीगढ़ में 220 भट्ठों को पहले ही बंदी का आदेश जारी हो चुका है। 

क्या है जिगजैग तकनीक

जिगजैग तकनीक में ईंट पथाई के लिए बनाया जाने वाला चैंबर जेड तकनीक पर बनता है। यह घुमावदार होता है। कोयला कम लगता है और उत्पादन अधिक होता है। चिमनियों के ऊपर वायु प्रदूषण निवारक यंत्र लगते हैं जिससे धुआं आसमान में उड़ जाता है। 

किस जिले में कितने भट्ठे 
अलीगढ़-540
हाथरस-186
कासगंज-223
एटा-176 

अलीगढ़ प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के अधिकारी और सहायक वैज्ञानिक डॉ. जेपी सिंह ने कहा, 'एनजीटी ने गंगीरी व कौडियागंज के ईंट भट्ठों की विशेष जांच को आदेश जारी किया है। करीब 35 पेज का ऑर्डर है एनजीटी का आया है। इसका अध्ययन किया जा रहा है। इसमें वायु प्रदूषण के मानक ईंट भट्ठा संचालकों को पूरा करना होगा, संचालन तभी होगा।' 

अलीगढ़ ईंट निर्माता समिति के अध्यक्ष ठा. जनक पाल सिंह ने कहा, 'एनजीटी का आदेश अलीगढ़ के ईंट भट्ठों के लिए आ गया है। इसमें ईंट भट्ठों का सीजन केवल चार माह के लिए कर दिया है। हाईड्रा ड्राफ्ट वाले भट्ठे तैयार करने में 25 लाख रुपये से अधिक खर्च होगा। अलीगढ़ ईंट निर्माता समिति इसको लेकर बैठक करेगी।' 

महामंत्री हेमेंद्र चौधरी ने कहा, 'एनजीटी का आदेश मौजूदा सीजन में आ गया है। इसमें प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड व प्रशासनिक अफसरों के सहयोग की जरूरत है। कम समय में ईंट भट्ठे के पूरे सिस्टम को बदल पाना मुश्किल होगा। न्यायालय के फैसले का पालन करेंगे।'।

epaper

संबंधित खबरें