DA Image
Thursday, December 9, 2021
हमें फॉलो करें :

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशकस्‍टडी में मौत: एसओ सहित 6 पुलिसवाले सस्‍पेंड, वाल्मीकि समाज ने रखी एक करोड़ मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग

कस्‍टडी में मौत: एसओ सहित 6 पुलिसवाले सस्‍पेंड, वाल्मीकि समाज ने रखी एक करोड़ मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग

हिमेंद्र चतुर्वेदी,आगरा़Ajay Singh
Wed, 20 Oct 2021 04:43 PM
कस्‍टडी में मौत: एसओ सहित 6 पुलिसवाले सस्‍पेंड, वाल्मीकि समाज ने रखी एक करोड़ मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग

आगरा के जगदीशपुरा थाने के मालखाने से 25 लाख रुपए चोरी के शक में पकड़े गए सफाई कर्मी की पुलिस हिरासत में मौत पर परिवार और समाज के लोग गुस्‍से में हैं। अपने नेताओं के आह्वान पर बुधवार को समाज के लोगों ने शहर में वाल्मीकि जयंती पर आयोजित कार्यक्रम रद कर दिए। उधर, इस मामले में जगदीशपुरा थाने के एसओ और दारोगा सहित कुल छह पुलिसवालों को निलंबित कर दिया गया है।

यह भी पढ़ें: पुलिस हिरासत में मौत: अरुण वाल्मिकि के परिवार को 10 लाख मुआवजा, सरकारी नौकरी का देगी सरकार 

सफाई कर्मी अरुण की पुलिस हिरासत में मौत तब हुई जब पुलिस टीम उसके घर पर रुपयों की बरामदगी करने गई थी। वाल्मीकि समाज के नेताओं ने अरूण के परिवार के लिए सरकार से एक करोड़ रुपए मुआवजा और सरकारी नौकरी की मांग की है। इसके साथ ही दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ हत्‍या का मुकदमा दर्ज कर सख्‍त कार्रवाई करने की भी उनकी मांग है। आगरा के एसएसपी मुनिराज जी ने बताया कि 17 अक्‍टूबर को जगदीशपुरा थाने के मालखाने से 25 लाख रुपए कैश की चोरी हो गई थी। इस मामले में आईपीसी की धारा 457 और 380 के तहत अज्ञात लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी। जांच में जुटी पुलिस उन लोगों से पूछताछ कर रही थी जिनका थाने में अक्‍सर आना-जाना था। संदिग्‍धों में से एक सफाईकर्मी अरुण कुमार थाने में सफाई के लिए अक्‍सर आता-जाता था। उसे मंगलवार को तासगंज क्षेत्र से पकड़कर पूछताछ की गई। 

यह भी पढ़ेंकस्‍टडी में सफाईकर्मी की मौत: पुलिस ने प्रियंका गांधी को आगरा जाने से रोका, हिरासत में लिया

पुलिस के मुताबिक अरुण ने अपनी संलिप्‍तता स्‍वीकार कर ली थी और बताया था कि कैश उसके घर पर है। पुलिस टीम उसे लेकर उसके घर पहुंची जहां से 15 लाख रुपए बरामद हुए। हालांकि रिकवरी के दौरान अरुण कुमार की तबीयत बिगड़ने लगी तो परिवार के सदस्‍यों और पुलिस द्वारा उसे तुरंत नजदीकी अस्‍पताल ले जाया गया। वहां डॉक्‍टरों ने उसे मृत घोषित कर दिया। एसएसपी ने बताया कि अरुण कुमार की मौत के बाद आगरा के जिलाधिकारी से सम्‍पर्क कर शव का पोस्‍टमार्टम डॉक्‍टरों के पैनल से कराया गया। 

परिवार ने दर्ज कराई एफआईआर

अरुण के परिवार के सदस्‍यों ने इस मामले में एफआईआर दर्ज कराते हुए दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ कार्रवाई की मांग की है। एसएसपी ने बताया कि इस मामले में पोस्‍टमार्टम की रिपोर्ट और प्रारम्भिक जांच के बाद केस दर्ज कर लिया गया है। मामले में सख्‍त कार्रवाई की जाएगी। उधर, बुधवार को वाल्मीकि समाज के नेताओं ने अरुण कुमार की मौत पर गुस्‍सा जताते हुए विरोधस्‍वरूप वाल्मीकि जयंती पर आयोजित कार्यक्रम रद कर दिए। लोकल सेल्‍फ बॉडी वर्कर्स यूनियन के उपाध्‍यक्ष विनोद इलाहाबादी ने कहा कि पुलिस हिरासत में अरूण की मौत को लेकर समाज में काफी गुस्‍सा है। अरुण के परिवार को न्‍याय मिलने तक यह लड़ाई जारी रहेगी। उन्‍होंने परिवार के सदस्‍यों को एक करोड़ रुपए का मुआवजा, एक सरकारी नौकरी और दोषी पुलिसकर्मियों के खिलाफ सख्‍त कार्रवाई करने की मांग की। उन्‍होंने कहा कि दोषी पुलिसवालों के खिलाफ इस मामले में हत्‍या का केस दर्ज होना चाहिए। 

छह पुलिसवाले सस्‍पेंड

उन्‍होंने चेतावनी दी कि यदि प्रशासन उनकी मांगे नहीं मानता तो वाल्मीकि समाज हड़ताल पर जाने और आगरा नगर निगम के सारे काम ठप कर देने में संकोच नहीं करेगा। गौरतलब है कि जगदीशपुरा थाने के मालखाने में रविवार को 25 लाख रुपए की चोरी हुई थी। इसे सुरक्षा में गंभीर चूक मानते हुए आगरा जोन के एडीजी अजय आनंद ने थाने के एसओ और दारोगा सहित छह पुलिसवालों को सस्‍पेंड कर दिया है। 

सब्सक्राइब करें हिन्दुस्तान का डेली न्यूज़लेटर

संबंधित खबरें