DA Image
7 जुलाई, 2020|10:24|IST

अगली स्टोरी

आगरा : तूफान में ताजमहल के मुख्य गुम्बद के प्लेटफार्म की जालियां गिरी

शुक्रवार देर रात आए तूफान में एक बार फिर ताजमहल मुख्य गुम्बद के प्लेटफार्म की जालियां गिर गईं। जाली के कई टुकड़े यमुना की ओर गिर गए। इसके अलावा पूर्वी गेट और पश्चिमी गेट की ओर टर्न स्टाइल गेट के ऊपर लगे शेड भी गिर गये। इससे पहले वर्ष 2018 में आए तूफान में भी ताजमहल समेत कई स्मारकों को काफी नुकसान पहुंचा था।   

अधीक्षण पुरातत्वविद वसंत कुमार स्वर्णकार के मुताबिक शुक्रवार को आए तूफान में ताजमहल के मुख्य गुंबद की जालियों के कुछ पत्थर गिरे हैं। उन्होंने बताया कि स्मारक को हुए नुकसान को शनिवार सुबह देखा जाएगा। अन्य स्मारकों के बारे में भी जानकारी की जा रही है। याद रहे कि इससे पहले वर्ष 2018 में 11 अप्रैल को आए तूफान में शाहजहां और मुमताज महल की मोहब्ब्त के प्रतीक ताजमहल को भारी नुकसान पहुंचा थ। शाही दरवाजे का स्तंभ गिर गया था। कंगूरे कांच की मानिंद बिखर गए थे। उस वक्त 130 किलोमीटर प्रतिघंटा की गति से तूफान आया था। साथ में बारिश और ओले भी पड़े थे।

रॉयल गेट पर लगा गुलदस्ता पिलर गिर गया था। ताज के दक्षिणी गेट का गुलदस्ता पिलर, दिव्यांगों के लिए बनाई गई रैम्प, सरहिंदी बेगम के मकबरे में गुलदस्ता आदि को भी नुकसान पहुंचा था। ताजमहल से सटे रेवती के बाड़े में पेड़ गिर गया था। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के अधिकारियों ने बताया था कि आगरा किला, फतेहपुर सीकरी, सिकंदरा, रामबाग में भी पेड़ तथा कंगूरे के पत्थर उस दौरान गिरे थे। 

इसके बाद पांच मई को फिर आगरा में तूफान आया था। तब तूफान ताजमहल की दो मीनारें हिल गई थीं। 368 साल में पहली बार ताज के मुख्य ढांचे को हुआ नुकसान था। एएसआई के अनुसार ताज की मीनारों की खिड़की का पल्ला भी टूट गया था। इधर, फतेहपुर सीकरी में सलीम चिश्ती की दरगाह परिसर में बादशाही दरवाजे के बरामदे का छज्जा टूट गया। वहीं जनाना रोजा की दो बुर्जियों के छज्जे भी टूटे हैं।

छह डिग्री सेल्सियस गिर गया तापमान 
तूफानी बारिश और ओलावृष्टि के बाद तापमान धड़ाम हो गया। अधिकतम तापमान सामान्य से छह डिग्री गिर गया। यह 37.1 डिग्री सेल्सियस रिकार्ड किया गया है। इसी तरह न्यूनतम तापमान में भी गिरावट आई है। यह सामान्य से एक डिग्री कम होकर 25.5 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया है। मौसम विभाग के मुताबिक, शनिवार को भी इसी तरह तूफान और बारिश की आशंका है। लोग संभलकर रहें। पुराने मकानों में रहना खतरे भरा हो सकता है। जर्जर मकानों के आसपास से हट जाएं। मौसम खराब होने के बाद सड़कों पर निकलना भी खतरे भरा साबित हो सकता है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Agra : platform jaliayan of Taj Mahal main dome fallen down in storm