ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशशादीशुदा ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने छात्रा से लड़ाया इश्क, बनाया संबंध, पोल खुली तो हुआ फरार

शादीशुदा ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने छात्रा से लड़ाया इश्क, बनाया संबंध, पोल खुली तो हुआ फरार

आगरा में एक छात्रा से शादीशुदा ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने इश्क लड़ाया। शादी की बात छिपाकर उसे प्रेम जाल में फंसाया। संबध भी बनाया। शादी की बात खुली तो फरार हो गया। नौकरी से भी गैरहाजिर है।

शादीशुदा ट्रैफिक इंस्पेक्टर ने छात्रा से लड़ाया इश्क, बनाया संबंध, पोल खुली तो हुआ फरार
Yogesh Yadavहिन्दुस्तान,आगराMon, 29 Jan 2024 10:34 PM
ऐप पर पढ़ें

आगरा में बीएएमएस की छात्रा के साथ इश्क में धोखा हुआ। धोखा वर्दी वाले ने दिया। वह पहले से शादीशुदा है, यह बात छात्रा से छिपाई। उसे प्रेमजाल में फंसाया। शादी का झांसा दिया। उसके साथ दुराचार किया। पीड़िता ने हकीकत पता चलने पर आरोपित के खिलाफ सिकंदरा थाने में दुराचार का मुकदमा दर्ज कराया है। आरोपित ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह 21 दिन से गैरहाजिर चल रहा है। उसके खिलाफ विभागीय कार्रवाई के लिए एसीपी ट्रैफिक ने डीसीपी ट्रैफिक को रिपोर्ट दी है।

इंस्पेक्टर सिकंदरा नीरज कुमार शर्मा ने बताया कि पीड़िता मूलत: एटा की निवासी है। बीएएमएस की छात्रा है। रामबाग के पास पीजी में रहती थी। चौराहे पर ट्रैफिक सब इंस्पेक्टर सुरेंद्र सिंह की ड्यूटी रहती थी। करीब सात माह पहले छात्रा उसके संपर्क में आई। उसने छात्रा से दोस्ती कर ली। आरोप है कि उससे मिलने-जुलने लगा। कई बार उससे मिलने पीजी में भी गया। बाद में जिद करके छात्रा को सिकंदरा क्षेत्र में एक फ्लैट किराए पर दिला दिया। वहां आने-जाने लगा।

आरोप है कि टीएसआई ने कई बार छात्रा की मर्जी के बिना उससे शरीरिक संबंध बनाए। विरोध करने पर उसे शादी का झांसा दिया। टीएसआई पहले से विवाहित है। उसके बच्चे हैं। छात्रा को जब यह पता चला तो उसके होश उड़ गए। उसने टीएसआई के खिलाफ शिकायत का मन बना लिया। आरोप है कि टीएसआई ने उसे धमकाया। पीड़िता ने हिम्मत दिखाई। सिकंदरा थाने में आरोपित के खिलाफ तहरीर दी।

छानबीन में पता चला कि आरोपित टीएसआई तीन जनवरी को चार दिन की छु्ट्टी गया था। उसे आठ जनवरी को वापस लौटकर आना था। वापस नहीं लौटने पर उससे संपर्क करने का प्रयास किया गया। उसने गैर हाजिर होने के संबंध में कोई सूचना नहीं दी। 16 जनवरी को उसकी फाइल खोली गई।

एसीपी ट्रैफिक सैयद अरीब अहमद ने सोमवार को टीएसआई के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति करते हुए डीसीपी ट्रैफिक को रिपोर्ट दी। रिपोर्ट में यह भी लिखा कि टीएसआई पर लगे आरोपों से अनुशासित बल की छवि धूमिल हुई है। इंस्पेक्टर सिकंदरा नीरज कुमार शर्मा ने बताया कि टीएसआई के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। छात्रा के कोर्ट में बयान दर्ज कराए जाएंगे।

कई दिन तक टला मुकदमा
पीड़िता ने तहरीर कई दिन पहले दी थी। पुलिस ने मुकदमा नहीं लिखा। पहले कोशिश थी कि मामले में समझौता हो जाए। टीएसआई गायब है। उससे संपर्क नहीं हो सका। मामला अधिकारियों तक पहुंच गया। इसके बाद आनन-फानन में मुकदमा दर्ज किया गया, ताकि थाना पुलिस पर कोई आरोप नहीं लगे।

दो दरोगा एक सिपाही पहले से जेल में
कमिश्नरेट में तैनात दो दरोगा और एक सिपाही पहले से जेल में बंद हैं। बरहन थाने से दरोगा संदीप कुमार को दुराचार में जेल भेजा गया था। छत्ता थाने से एक सिपाही खुदकुशी के लिए दुष्प्रेरित करने के आरोप में जेल गया था। युवती ने सिपाही के कमरे पर खुदकुशी कर ली थी। एसओ जितेंद्र कुमार जगदीशपुरा जमीन कांड में जेल में बंद है। टीएसआई के खिलाफ दुराचार का मुकदमा हुआ है। वह फरार है।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें