ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशअतीक-अशरफ की हत्या के बाद क्यों अचानक बंद हो गए 22 जिलों के 3 हजार फोन?सुराग जुटा रही एसटीएफ

अतीक-अशरफ की हत्या के बाद क्यों अचानक बंद हो गए 22 जिलों के 3 हजार फोन?सुराग जुटा रही एसटीएफ

प्रयागराज में अतीक-अशरफ की हत्या के बाद सर्विलांस पर लिए गए तीन हजार मोबाइल फोन अचानक बंद हो गए। एक साथ इतने सारे मोबाइल नम्बर ऑफ हो जाने से जांच भी प्रभावित हो रही है।

अतीक-अशरफ की हत्या के बाद क्यों अचानक बंद हो गए 22 जिलों के 3 हजार फोन?सुराग जुटा रही एसटीएफ
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,लखनऊFri, 21 Apr 2023 06:25 AM
ऐप पर पढ़ें

प्रयागराज में अतीक-अशरफ की हत्या के बाद सर्विलांस पर लिए गए तीन हजार मोबाइल फोन अचानक बंद हो गए। उमेश पाल की हत्या के मामले में फरार शूटरों और मददगारों की तलाश के लिए इन नम्बरों को सर्विलांस पर लेकर सुराग जुटा रही थी। अतीक-अशरफ की हत्या के बाद दूर दराज के रिश्तेदार व सम्पर्क में रहने वाले अब दहशत में आ गए हैं। एक साथ इतने सारे मोबाइल नम्बर ऑफ हो जाने से जांच भी प्रभावित हो रही है। हालांकि कॉल डिटेल के आधार पर एसटीएफ ने अब मुखबिरों की मदद फिर से लेना शुरू कर दिया है।

24 फरवरी को उमेश पाल की हत्या के बाद एसटीएफ ने असद, गुलाम, अरमान और साबिर व शाइस्ता को ढूंढ़ने के लिये पांच हजार से अधिक मोबाइल नम्बर सर्विलांस पर ले रखे थे। इससे एसटीएफ को कई महत्वपूर्ण जानकारियां भी मिली थी। इसी के बाद एसटीएफ दिल्ली में तीन मददगारों तक पहुंची थी। इन मददगारों से ही असद व गुलाम की लोकेशन मिली थी। फिर इन लोगों का अजमेर से पीछा करते हुये झांसी में एसटीएफ ने दोनों को घेर लिया था। मुठभेड़ में दोनों मार गिराये गये थे। इसके बाद ही 15 अप्रैल को प्रयागराज में रिमांड अवधि में माफिया अतीक व अशरफ की सरेआम हत्या कर दी गई। इस घटना से पूरा प्रयागराज और अंडरवर्ल्ड दहल गया था।

दोहरे हत्याकाण्ड के बाद ही करीब तीन हजार नम्बर बंद

एसटीएफ के एक अधिकारी ने बताया कि अतीक व अशरफ की हत्या के बाद तीन दिन में एक-एक कर करीब तीन हजार मोबाइल नम्बर स्विच ऑफ हो गये। यही नहीं इनमें से ज्यादातर लोग अपने घरों से भी चले गये। किसी ने दूर अपने दोस्तों के यहां शरण ले ली तो कोई घूमने की बात पड़ोसियों से कहकर चला गया। एसटीएफ का कहना है कि अचानक नम्बरों के बंद होने से कई लोग रडार पर थे जिनके बारे में सब कुछ जानते हुये भी उन पर हाथ नहीं डाला जा रहा था। ऐसा इसलिये किया जा रहा था कि शायद इनके सम्पर्क में कोई आरोपित आ जाये तो उस तक पहुंचा जा सके।

लखनऊ, दिल्ली, बाराबंकी, कानपुर समेत 22 जिलों के नम्बर थे
एसटीएफ और प्रयागराज पुलिस ने लखनऊ, प्रयागराज, दिल्ली, बाराबंकी, कानपुर, गाजियाबाद, नोएडा, अजमेर, शाहजहांपुर, झांसी, हरदोई, बरेली, सहारनपुर, पटना, रांची, रायपुर समेत 22 जिलों के ये नम्बर स्विच ऑफ हुए हैं। इनमें कुछ मोबाइल नम्बर कुछ दूसरे माफिया गिरोहों से जुड़े लोगों के भी थे। हालांकि अतीक-अशरफ की हत्या के बाद एसटीएफ ने कुछ और नम्बरों को सर्विलांस पर लिया है।