ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशमैं भी झूला झूलुंगी...बेटियों को कमरे में भेजकर पेड़ के पास पहुंची महिला, कुछ देर बाद मच गई चीख-पुकार

मैं भी झूला झूलुंगी...बेटियों को कमरे में भेजकर पेड़ के पास पहुंची महिला, कुछ देर बाद मच गई चीख-पुकार

यूपी के अमरोहा में एक महिला ने खौफनाक कदम उठा लिया। महिला के इस कदम से परिवार वाले भी हैरान हैं। महिला को किसी तरह की कोई परेशानी भी नहीं थी। महिला के परिवार में भी सबकुछ ठीक चल रहा था।

मैं भी झूला झूलुंगी...बेटियों को कमरे में भेजकर पेड़ के पास पहुंची महिला, कुछ देर बाद मच गई चीख-पुकार
Dinesh Rathourहिन्दुस्तान,अमरोहाFri, 24 May 2024 05:10 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी के अमरोहा में एक महिला ने खौफनाक कदम उठा लिया। महिला के इस कदम से परिवार वाले भी हैरान हैं। महिला को किसी तरह की कोई परेशानी भी नहीं थी। महिला के परिवार में भी सबकुछ ठीक चल रहा था। इसके बाद भी महिला की आत्महत्या करने की वजह नहीं पता चल पाई। मामला दो दिन पहले का है। महिला की बेटियों घर के बाहर पेड़ पर झूला झूल रही थीं। उसी दौरान महिला पहुंची और अपनी बेटियों से कहा कि आज मैं भी झूला झूलकर देखूंगी। इसके बाद महिला ने अपनी सात और पांच साल की बेटियों से यह कहकर उन्हें घर का काम करने अंदर भेज दिया और महिला ने खुद आम के पेड़ पर लटककर अपनी जीवन लीला समाप्त कर ली। महिला को जब पेड़ से लटका देखा तो चीख-पुकार मच गई। महिला क मौत की सूचना पर पहुंचे मायके वालों ने हत्या का आरोप लगाते हुए मौके पर जमकर हंगामा किया। हालांकि, बाद में ग्रामीणों के समझाने पर बिना कानूनी कार्रवाई शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मामला गांव में चर्चा का विषय बना है।

मामला कोतवाली क्षेत्र के नजदीकी गांव में बुधवार शाम का है। गांव निवासी किसान खेत पर फसल की सिंचाई कर रहा था। घर पर 35 वर्षीया पत्नी और सात तथा पांच वर्ष की बेटियां मौजूद थीं। बताया जा रहा है कि गर्मी से बचने के लिए परिवार के लोग घर के पीछे स्थित आम के पेड़ों के नीचे छाया में बैठ जाते थे। महिला बुधवार को अपने पति को खेत पर खाना देकर घर आई थी। इसके बाद वहां मौजूद दोनों बेटियों से बोली कि आज वह भी पेड़ पर झूला झूलकर देखेगी। बेटियों ने उसकी बात का तब मतलब नहीं समझा और घरेलू काम में लग गईं। इसके कुछ देर बाद देखा तो मां का शव घर के पीछे आम के पेड़ पर लटका था। चीख-पुकार पर परिवार और गांव के तमाम लोग मौके पर पहुंच गए। महिला को आनन-फानन नीचे उतारा गया लेकिन उसकी मौत हो चुकी थी।

जानकारी पर संभल जिले के गांव से मृतका के मायके वाले भी मौके पर पहुंच गए। उन्होंने महिला की हत्या करने का आरोप लगाते हुए हंगामा शुरू कर दिया। ग्रामीणों ने मायके वालों को समझाया तो उन्होंने दोनों बेटियों से पूरे मामले की जानकारी की। इसके बाद ही वह शांत हुए। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच तय हुआ कि दोनों बेटियों के नाम भूमि का बैनामा करा दिया जाएगा। देर रात बिना किसी कानूनी कार्रवाई शव का अंतिम संस्कार कर दिया गया। मामला गांव में चर्चा का विषय बना है। हालांकि, परिजन और ग्रामीण यह नहीं समझ पा रहे हैं कि महिला ने फांसी क्यों लगाई। बताया जा रहा है कि परिवार में भी उसे कोई परेशानी नहीं थी। वहीं प्रभारी निरीक्षक सनोज प्रताप सिंह ने इस बाबत जानकारी से इनकार किया। कहा कि सूचना मिलने पर शव का पोस्टमार्टम कराते हुए आगे जांच और कार्रवाई की जाएगी।