ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेशकेशव के बाद ब्रजेश पाठक, 24 घंटे में दोनों डिप्टी सीएम की भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात, अटकलें तेज

केशव के बाद ब्रजेश पाठक, 24 घंटे में दोनों डिप्टी सीएम की भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात, अटकलें तेज

यूपी में नए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खोजबीन जारी है। इस बीच 24 घंटे के अंदर ही यूपी के दोनों डिप्टी सीएम (केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक) की भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात हुई है।

केशव के बाद ब्रजेश पाठक, 24 घंटे में दोनों डिप्टी सीएम की भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात, अटकलें तेज
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,लखनऊThu, 18 Aug 2022 07:11 PM

इस खबर को सुनें

0:00
/
ऐप पर पढ़ें

यूपी में नए भाजपा प्रदेश अध्यक्ष की खोजबीन जारी है। कई नामों की चर्चा हो रही है। एक तरह से नए अध्यक्ष का बेसब्री से इंतजार हो रहा है। इस बीच 24 घंटे के अंदर ही यूपी के दोनों डिप्टी सीएम (केशव प्रसाद मौर्य और ब्रजेश पाठक) ने भाजपा अध्यक्ष जेपी नड्डा से मुलाकात की है। इन मुलाकातों को लेकर कई अटकलें हैं। नए अध्यक्ष की नियुक्ति को लेकर विचार विमर्श से भी जो जोड़ा जा रहा है। जेपी नड्डा से बुधवार को पहले डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य ने मुलाकात की थी। इसके बाद गुरुवार को डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक ने मुलाकात की है। 

उपमुख्यमंत्री बृजेश पाठक ने दिल्ली में नड्डा से उनके आवास पर मुलाकात की है। प्रदेश की राजनीति के लिहाज से यह मुलाकात अहम मानी जा रही है। संगठन के नए प्रदेश अध्यक्ष के नाम के ऐलान से पहले नड्डा के साथ पाठक की इस मुलाक़ात को संगठन की नई सूरत से जोड़कर देखा जा रहा है। वैसे दोनों नेताओं के बीच प्रदेश में केंद्र व राज्य की योजनाओं के संचालन को लेकर चर्चा हुई। स्वास्थ्य के क्षेत्र में लगातार हो रही प्रगति पर भी चर्चा की गई है।

स्‍वतंत्र देव को 2019 में भाजपा का प्रदेश अध्‍यक्ष बनाया गया था। उनका कार्यकाल 16 जुलाई को पूरा हुआ था। इसके बाद स्वतंत्र देव सिंह ने जुलाई के अंत में पार्टी के प्रदेश अध्‍यक्ष पद से इस्‍तीफा दे दिया था। 
उनके इस्तीफे के बाद नए अध्यक्ष को लेकर केशव प्रसाद मौर्य का नाम सबसे आगे था। इसके बाद नया प्रदेश अध्‍यक्ष ब्राह्मण या दलित वर्ग से होने की चर्चा तेज हुई है।

इसी को लेकर ब्राह्मण और दलित समाज से कुछ नाम रेस में चलाए जा रहे हैं। सबसे ज्यादा चर्चा में जिन ब्राह्मण नेताओं का नाम है उनमें हरीश द्विवेदी, योगेंद्र उपाध्याय, पूर्व उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, सांसद सुब्रत पाठक का नाम शामिल है। दलित वर्ग से सांसद रमाशंकर कठेरिया और विनोद सोनकर के नाम भी चल रहे हैं।