ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशACP देर रात फ्लैट पर बुलाते हैं, दरोगा भी... अफसर के सामने महिला सिपाहियों ने बयां किया दर्द

ACP देर रात फ्लैट पर बुलाते हैं, दरोगा भी... अफसर के सामने महिला सिपाहियों ने बयां किया दर्द

आगरा में अपने ही विभाग की महिला दारोगा को रात में सोने के लिए घर बुलाने वाले एत्माद्दौला थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र अकेले नहीं हैं। उनके जैसी हरकतें अन्य दारोगा और एसीपी तक कर रहे हैं।

ACP देर रात फ्लैट पर बुलाते हैं, दरोगा भी... अफसर के सामने महिला सिपाहियों ने बयां किया दर्द
Yogesh Yadavलाइव हिन्दुस्तान,आगराTue, 25 Jun 2024 03:25 PM
ऐप पर पढ़ें

आगरा में अपने ही विभाग की महिला दारोगा को रात में सोने के लिए घर बुलाने वाले एत्माद्दौला थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र अकेले नहीं हैं। उनके जैसी हरकतें और भी इंस्पेक्टर,दारोगा और यहां तक कि एसीपी भी कर रहे हैं। एसीपी भी महिला सिपाहियों को रात में अपने फ्लैट पर बुलाते हैं। दुर्गेश कुमार मिश्र की करतूतें सामने आने के बाद महिला एसीपी सुकन्या शर्मा ने महिला पुलिस कर्मियों की बैठक बुलाई। उनकी समस्याओं को सुनना शुरू किया तो पुरुष पुलिस वालों की करतूतें सामने आने लगीं। महिला दरोगाओं का दर्द सामने आने लगा। खुलासा हुआ कि सिटी जोन में तैनात एक एसीपी रात को अपने फ्लैट पर अर्दली रूम (ओआर) लेते हैं। घंटों महिला दरोगाओं को खड़ा रखते हैं। बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं देते। इतना ही नहीं कई थाना प्रभारियों के बारे में भी ऐसी ही शिकायतें सामने आईं। 

बैठक में महिला दरोगाओं से उनकी परेशानियां पूछी गईं तो हिम्मत जुटाकर दो महिला दरोगाओं ने बताया कि एसीपी देर रात अपने फ्लैट पर अर्दली रूम के लिए बुलाते हैं। घंटों रोककर रखते हैं। खुद कुर्सी पर बैठे रहते हैं। उन्हें बैठने के लिए कुर्सी तक नहीं देते। अर्दली रूम के लिए रात को अचानक फोन आता है। उस समय वे घर पर होती हैं। कहा कि मीटिंग हाल में सोफा है। उस पर इंस्पेक्टर बैठ जाते हैं। यह मीटिंग दिन में थाना परिसर में भी ली जा सकती है। देहात के एक थानाध्यक्ष की भी महिला दरोगाओं ने शिकायत की। बताया कि थानाध्यक्ष भी रात 11 बजे बुलाते है। 

डीजीपी की बेटी से शादी, महिला मित्र से नजदीकियां, आईपीएस अंकित मित्तल निलंबित

क्यों बुलानी पड़ी बैठक
आगरा के ही एत्माद्दौला थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र की करतूत सामने आने के बाद पुलिस कमिश्नर के आदेश पर महिला एसीपी ने महिला पुलिसकर्मियों की बैठक बुलाई थी। थाना प्रभारी दुर्गेश कुमार मिश्र पर ट्रेनी महिला दारोगा ने दो दिन पहले गंभीर आरोप लगाए थे। आगरा कमिश्नर को लिखे पत्र में महिला दारोगा ने कहा था कि थाना प्रभारी उस पर बदनीयत रखता है।  कहा कि 20 जून को रात 12 बजे फोन करके थाना प्रभारी ने कहा कि बहुत गर्मी है, मेरे कमरे में एसी लगा है। यहां आकर सो जाओ। मना करने पर उसको थाने से हटाने और बदनाम करने तक की धमकी दी।

महिला दारोगा महीनों से इस्पेक्टर की हरकतें सहन कर रही थी। कहा कि होली के दिन जबरन थाने में बैठाए रखा था और फिर उसको अचानक पकड़ लिया। यही नहीं उसको किस करने लगा। ट्रेनी महिला दारोगा ने कहा कि नई नौकरी है, छूट जाएगी, इसलिए बर्दाश्त कर लिया, लेकिन थाना प्रभारी की अश्लील हरकतें बंद नहीं हुईं। 

महिला दारोगा ने कहा कि थाना प्रभारी उसको थाने में ही कमरा दिलाना चाहता था, लेकिन जब उसने बाहर कमरा ले लिया तो उसके खिलाफ रपट लगा दी। थानेदार शादी नहीं होने देना चाहता है, अपने साथ रखने के लिए दबाव बनाता है। डीसीपी सिटी सूरज राय ने बताया कि ट्रेनी महिला दारोगा की शिकायत पर थाना प्रभारी (SHO) दुर्गेश कुमार मिश्र और सब इंस्पेक्टर अमित प्रसाद को निलंबित कर दिया गया है। जांच में दोनों को दोषी पाया गया है। इस पूरे मामले की बारीकी सी जांच कराई जा रही है।