ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशकांग्रेस किसी को नहीं रोकती, इंडिया गठबंधन का नीतीश ने अंतिम संस्कार कर दिया; बोले प्रमोद कृष्णम

कांग्रेस किसी को नहीं रोकती, इंडिया गठबंधन का नीतीश ने अंतिम संस्कार कर दिया; बोले प्रमोद कृष्णम

बिहार में CM नीतीश कुमार के I.N.D.I.A गठबंधन छोड़कर एनडीए में जाने को इंडिया गठबंधन का अंतिम संस्‍कार करार देते हुए कांग्रेस नेता प्रमोद कृष्‍णम ने कहा कि कांग्रेस किसी को रोकने की कोशिश नहीं करती है।

कांग्रेस किसी को नहीं रोकती, इंडिया गठबंधन का नीतीश ने अंतिम संस्कार कर दिया; बोले प्रमोद कृष्णम
Ajay Singhहिन्‍दुस्‍तान ,लखनऊMon, 29 Jan 2024 11:04 AM
ऐप पर पढ़ें

Acharya Pramod Krishnam's reaction on Nitish Kumar: बिहार में सीएम नीतीश कुमार के I.N.D.I.A गठबंधन छोड़कर एनडीए में जाने को इंडिया गठबंधन का अंतिम संस्‍कार करार देते हुए कांग्रेस नेता आचार्य प्रमोद कृष्‍णम ने कहा कि कांग्रेस किसी को रोकने की कोशिश नहीं करती है। जिसे जाना हो जाओ। कांग्रेस एक महान पार्टी है। इंडिया गठबंधन जब से बना तभी से ये गंभीर बीमारियों से ग्रस्‍त हो गया था। अंत में वेंटिलेटर पर चला गया और कल नीतीश कुमार ने इसका अंतिम संस्‍कार भी कर दिया। अब इंडिया गठबंधन का क्‍या होगा? 

प्रमोद कृष्‍णम ने कहा कि अब तो इंडिया गठबंधन का पटना में अंतिम संस्‍कार हो चुका है। इसके पहले भी बिहार के घटनाकम को लेकर आचार्य प्रमोद कृष्णम का बयान सामने आया था। उन्‍होंने कहा था कि यदि इंडिया गठबंधन को प्रियंका गांधी या अरविंद केजरीवाल कॉर्डिनेट कर रहे होते तो शायद नीतीश कुमार इस गठबंधन छोड़कर नहीं जाते। मैंने पहले भी कहा था कि नीतीश कुमार पर नजर रखो या तो उनका सम्मान करो। दो दिन पहले बिहार के राजनीतिक हालात पर आचार्य प्रमोद कृष्‍णम का एक और बयान आया था। इसमें उन्‍होंने कहा था  कि  नीतीश कुमार अपनी विश्वसनीयता खो चुके हैं। इसकी वजह उनके फैसले और वो खुद हैं। कांग्रेस को अब पूरे देश में अकेले चुनाव लड़ने पर विचार करना चाहिए। इन बैसाखियों के सहारे इतनी बड़ी लड़ाई नहीं लड़ी जा सकती।

बता दें कि रविवार को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के साथ आठ मंत्रियों ने पद एवं गोपनीयता की शपथ ली। राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने सभी को शपथ दिलायी। उन्‍होंने रविवार की सुबह महागठबंधन के सीएम पद से इस्तीफा दिया और शाम को एनडीए गठबंधन के मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। सुबह 11 बजे राजभवन जाकर राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर को अपना इस्तीफा सौंपा। इसके छह घंटे बाद शाम पांच बजे उन्होंने नौवीं पर मुख्यमंत्री पद की शपथ ली। यह बिहार की पहली घटना है, जब एक ही दिन में किसी नेता का इस्तीफा और उसी दिन उनका शपथ हुआ। 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें