DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कलंक कथाः सीजीएसटी घूसकांड में फरार सुपरिटेंडेंट अमन शाह ने सीबीआई के सामने किया सरेंडर

सीजीएसटी के सुपरिटेंडेंट अमन शाह अपनी पत्नी के साथ।

निलंबित सीजीएसटी कमिश्नर संसारचंद घूसकांड में दो हफ्ते से फरार चल रहे सुपरिटेंडेंट अमन शाह ने सीबीआई के सामने सरेंडर कर दिया। दिल्ली में पेश होने के बाद केंद्रीय खुफिया एजेंसी की टीम ने उससे कानपुर लाकर पूछताछ की, फिर रिमांड पर ले लिया। गिरफ्तार अन्य आरोपियों की रिमांड अवधि समाप्त होने के बाद जेल भेज दिया गया है।
तीन फरवरी को सीबीआई ने संसारचंद को रिश्वरखोरी के आरोप में गिरफ्तार किया था। उनके अलावा सेंट्रल जीएसटी के तीन सुपरिटेंडेंट, एक वकील, संसारचंद की पत्नी अविनाश कौर, साबुन व्यापारी और तीन हवाला कारोबारियों पर नामजद एफआईआर दर्ज कराई गई थी। इनमें से आठ को सीबीआई ने गिरफ्तार कर लिया था। अमन शाह और अविनाश कौर को फरार घोषित कर दिया गया था।
संसारचंद सहित गिरफ्तार आठ आरोपियों की रिमांड 17 फरवरी को पूरी हो गई। इससे पहले 16 फरवरी को अमन शाह ने दिल्ली में सीबीआई अफसरों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया। जांच एजेंसी उन्हें लेकर लखनऊ गई और वहां से कानपुर लाया गया। ऑफिस और घर न ले जाकर अमन को जांच अधिकारी सीधे गुजैनी स्थित सेंट्रल एक्साइज कॉलोनी ले गए। वहां पूछताछ के बाद अज्ञात स्थान पर ले जाया गया। अमन के बाद अगले दिन सीबीआई की टीम संसारचंद को लेकर सेंट्रल एक्साइज कॉलोनी लाई। कमिश्नर के सामने उनके गुजैनी स्थित आवास की सील तोड़ी और मकान के अंदर लेकर गए। वहां एक बार फिर तलाशी ली गई। वहां से संसारचंद को लखनऊ ले जाया गया और जेल भेज दिया गया। इस बीच सूत्रों के मुताबिक सर्वोदय नगर स्थित सेंट्रल जीसएटी मुख्यालय में अमन शाह और संसारचंद के सील ऑफिस खोलने की हरी झंडी मिल गई है। ज्वाइंट कमिश्नर वीके जैन अवकाश पर थे, इस वजह से आदेश नहीं आया। सोमवार को उनके दफ्तर आने के बाद इस दिशा में काम आगे बढ़ेगा। घूसखोरी कांड के बाद ठप पड़े कामकाज में अभी भी खास तेजी नहीं आई है। कानपुर का चार्ज फिलहाल लखनऊ कमिश्नर वी के बाल्टे के पास है। उन्होंने केवल अर्जेन्ट फाइल लेकर आने के ही निर्देश जारी किए हैं। 
 

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Absconding supremendant Aman Shah surrenders before CBI