ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशMLA और पूर्व मंत्री के नाम पर ठग लिए 58 लाख, विशाखापत्तनम के फर्नीचर व्यापारी ने लगाई गुहार

MLA और पूर्व मंत्री के नाम पर ठग लिए 58 लाख, विशाखापत्तनम के फर्नीचर व्यापारी ने लगाई गुहार

Case of forgery: उसने विधायक के साथ खुद की फोटो दिखाकर बालू खनन के ठेका में शेयर के नाम पर वसूली की है। अब रुपये वापस मांगने पर अपहरण और दूसरे फर्जी केस में फंसाने का धमकी दे रहा है।

MLA और पूर्व मंत्री के नाम पर ठग लिए 58 लाख, विशाखापत्तनम के फर्नीचर व्यापारी ने लगाई गुहार
Ajay Singhवरिष्ठ संवाददाता,गोरखपुरSun, 19 May 2024 11:16 AM
ऐप पर पढ़ें

Gorakhpur News: गोरखपुर के एक वर्तमान विधायक और पूर्व मंत्री के नाम पर विशाखापत्तनम के फर्नीचर व्यापारी से 58 लाख रुपये की ठगी का मामला सामने आया है। आरोप है कि उसने विधायक के साथ खुद की फोटो दिखाकर बालू खनन के ठेका में शेयर के नाम पर वसूली की है। अब रुपये वापस मांगने पर अपहरण और दूसरे फर्जी केस में फंसाने का धमकी दे रहा है। विधायक से संपर्क करने के बाद भी रुपये वापस नहीं होने पर पीड़ित ने एसएसपी कार्यालय में प्रार्थना पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है। बड़हलगंज पुलिस को जांच के लिए प्रार्थना पत्र भेजा गया है।

जानकारी के मुताबिक, झंगहा के राघोपट्टी पड़री गांव निवासी जितेंद्र साहनी लंबे समय से विशाखापट्टनम में रहते हैं, वहां पर उनका फर्नीचर का कारोबार हैं। प्रार्थना पत्र में लिखा है कि तीन साल पहले उनकी मुलाकात बड़हलगंज इलाके के रहने वाले एक जालसाज से हो गई। उसने बताया कि वह विधायक जी के साथ रहता है। उसने पूर्व मंत्री के साथ खुद की फोटो दिखाते हुए कहा कि तुम मेरी ही बिरादरी के हो, कहां इतना दूर व्यापार कर रहे हो।

यही पर आ जाओ मेरा बालू खनन का लंबा कारोबार है और सब विधायक जी के मदद से चल रहा है। उसकी बातों में आकर जितेंद्र ने जमापूंजी 50 लाख रुपये दे दिया। फिर उसने विधायक के नाम पर भी आठ लाख रुपये की वसूली कर ली और फरार हो गया। अब पीड़ित ने प्रार्थना पत्र देकर कार्रवाई की मांग की है।

परिवार के शख्स के खाते में भी भेजवा दिए रुपये

पीड़ित जितेंद्र का कहना है कि आरोपी ने विधायक के परिवार के एक शख्स के खाते में भी रुपये मंगवा लिए। बाद में पता करने पर मालूम हुआ कि उसने मदद के नाम पर रूपये मंगवाए थे और फिर वापस ले लिए। पीड़ित ने बैक खाते के डिटेल के साथ प्रार्थना पत्र दिया है।