ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशअयोध्या के बजाय सहारनपुर पहुंची बिहार की 3 महिलाएं, मुस्लिम युवक ने 2 दिन तक कमरे में रखा बंद, जांच में जुटी पुलिस

अयोध्या के बजाय सहारनपुर पहुंची बिहार की 3 महिलाएं, मुस्लिम युवक ने 2 दिन तक कमरे में रखा बंद, जांच में जुटी पुलिस

अयोध्या धाम की बजाय महिलाओं को बहला-फुसलाकर सहारनपुर ले आने का मामला सामने आया है। तीनों महिलाएं बिहार के भागलपुर की रहने वाली हैं। हिंदू संगठन के लोगों का आरोप है कि महिलाओं को बेचने की तैयारी थी।

अयोध्या के बजाय सहारनपुर पहुंची बिहार की 3 महिलाएं, मुस्लिम युवक ने 2 दिन तक कमरे में रखा बंद, जांच में जुटी पुलिस
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,सहारनपुरWed, 07 Feb 2024 09:58 PM
ऐप पर पढ़ें

अयोध्या धाम की बजाय महिलाओं को बहला-फुसलाकर सहारनपुर ले आने का मामला सामने आया है। दरअसल बिहार से अयोध्या दर्शन के लिए आई बिहार के भागलपुर की तीन महिलाएं संदिग्ध हालत में बड़गांव क्षेत्र में नहर पटरी पर मिली। ग्रामीणों को देखकर कार में बैठी महिलाओं से शोर मचा दिया। इसके बाद चालक कार को छोड़कर वहां से फरार हो गया। ग्रामीणों ने महिलाओं की खरीद फरोख्त की आशंका जताते हुए किया हंगामा। महिलाओं का कहना है कि वह ट्रेन से सहारनपुर पहुंची थी। जहां पर रिजवान नाम के एक व्यक्ति ने दो दिन के उन्हें कमरे में बंधक बनाकर रखा था। 

मामला थाना गड़गांव क्षेत्र के नहर पटरी का है। बुधवार दोपहर बाद बड़गांव-देवबंद पर बेलडा नहर पुल के समीप खड़ी एक अल्टो कार में तीन महिलाओं की चीख-पुकार सुनाई दी। जिसे सुनकर आसपास के राहगीर रूक गए। देखते ही देखते हिंदू संगठनों के कुछ युवक भी वहां पर पहुंच गए। जिसे देखकर कार सवार कार को मौके पर ही छोड़कर वहां से फरार हो गया। पुलिस ने महिलाओं को थाने पर लाकर उनसे जानकारी ली। तीनों महिला रीता देवी, मीरा देवी और सुलेखा उर्फ सुनीता बिहार की रहने वाली हैं।

उन्होंने बताया कि एक व्यक्ति उन्हें अयोध्या में राम मंदिर दर्शन कराने का झांसा देकर लाया था। लेकिन, वह ट्रेन से सहारनपुर पहुंची। जहां पर रिजवान नाम के एक व्यक्ति मिला। रिजवान ने दो दिन तक उन्हें एक कमरे में बंद करके रखा। इसके बाद महिलाओं को बड़गांव क्षेत्र में छोड़ दिया। जहां से महिलाओं को कार में लेकर व्यक्ति उन्हें ले जा रहा था। ग्रामीणों ने महिलाओं को बेचने की आशंका जताते हुए हंगामा किया।

इंस्पेक्टर संजीव शर्मा ने महिलाओं से पूरे मामले की जानकारी ली और महिलाओं के परिजनों से भी बात की। उधर, सीओ देबवंद अशोक सिसोदिया ने बताया कि महिलाओं से वार्ता की गई है। महिलाएं दर्शनों को आई थी। लेकिन, वहां बड़गांव क्षेत्र में पहुंच गई। कार सवार उन्हें बस स्टैंड छोड़ने जा रहा था। कार का टायर पेंचर होने के कारण नहर किनारे रोक दी थी। जिस कारण महिलाओं से डरकर शोर मचा दिया था।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें