ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशयूपी में 2796 शिक्षकों का एक से दूसरे जिले में तबादला, बेसिक शिक्षा परिषद ने जारी किया आदेश

यूपी में 2796 शिक्षकों का एक से दूसरे जिले में तबादला, बेसिक शिक्षा परिषद ने जारी किया आदेश

सालभर इंतजार के बाद आखिरकार 2796 परिषदीय शिक्षकों का तबादला मनचाहे जिले में हो गया। बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव सुरेन्द्र कुमार तिवारी ने बुधवार को अंतर जनपदीय पारस्परिक स्थानान्तरण के आदेश दिए हैं।

यूपी में 2796 शिक्षकों का एक से दूसरे जिले में तबादला, बेसिक शिक्षा परिषद ने जारी किया आदेश
bihar teacher fraud case
Dinesh Rathourमुख्य संवाददाता,प्रयागराजWed, 19 Jun 2024 07:45 PM
ऐप पर पढ़ें

सालभर इंतजार के बाद आखिरकार 2796 परिषदीय शिक्षकों का तबादला मनचाहे जिले में हो गया। बेसिक शिक्षा परिषद के सचिव सुरेन्द्र कुमार तिवारी ने बुधवार को अंतर जनपदीय पारस्परिक स्थानान्तरण के आदेश जारी कर दिए। कुल 1398 जोड़े (2796 शिक्षकों) के तबादले को मंजूरी मिली है। सचिव ने पहली बार एक जिले से दूसरे जिले में तबादला करने की बजाए सीधे एक से दूसरे स्कूल में ट्रांसफर कर दिया है जिससे शिक्षकों में नाराजगी है।

सचिव ने सभी बेसिक शिक्षा अधिकारियों को निर्देशित किया है कि स्थानान्तरित शिक्षक एवं शिक्षिका को कार्यमुक्त/कार्यभार ग्रहण कराने की कार्यवाही 22 जून तक की जाएगी। साथ ही अभिलेखों का परीक्षण करते हुए स्थानान्तरित शिक्षकों को अनिवार्य रूप से एक साथ कार्यमुक्त एवं कार्यभार ग्रहण कराया जाए। यदि स्थानान्तरित जिले में उस बैच के अध्यापकों की पदोन्नति नहीं की गई है तो ऐसे शिक्षकों को कार्यमुक्त नहीं किया जाएगा। स्थानान्तरित अध्यापकों को मानव सम्पदा पोर्टल पर साथ-साथ कार्यमुक्त करने एवं कार्यभार ग्रहण कराने की कार्यवाही की जाएगी। 

प्रयागराज से 118 शिक्षकों का पारस्परिक तबादला

अंतर जनपदीय पारस्परिक तबादले में प्रयागराज से 118 शिक्षकों का आना-जाना हुआ है। जिले में 68 शिक्षक दूसरे जिलों से आएं हैं जबकि 50 शिक्षक प्रयागराज से बाहर दूसरे जिलों में गए हैं। आगरा के 197, कानपुर नगर और कानपुर देहात 91, बरेली 34, वाराणसी के 30, मेरठ 26, प्रतापगढ़ 24, लखनऊ 17, गोरखपुर नौ शिक्षक आए-गए हैं।

घर से 50-55 किमी दूर मिला स्कूल, फिर होगा विवाद

अंतर जनपदीय पारस्परिक तबादले के बाद स्थानान्तरित जिले में शिक्षकों के घर से स्कूल की दूरी 50-55 किमी होने पर विवाद होने लगा है। शिक्षकों का कहना है कि आवेदन करते समय कहीं पर भी यह नहीं लिखा था कि स्थानांतरण स्कूल से स्कूल किए जाएंगे। इससे पहले जो भी स्थानांतरण हुए थे उनमें जिले से जिला आवंटित हुआ था। बाद में बेसिक शिक्षा अधिकारी कार्यालय से काउंसिलिंग के बाद ऑनलाइन स्कूल आवंटन हुआ। जिले में स्कूल आवंटन बीएसए करते हैं, लेकिन इस आदेश से स्कूल आवंटन सचिव ने कर दिया है। यदि स्कूल से स्कूल ही ट्रांसफर करना है तो नए जनपद में शिक्षकों की वरिष्ठता समाप्त नहीं होनी चाहिए। यही नहीं अभी तक जो भी अंतर्जनपदीय पारस्परिक स्थानांतरण हुए हैं उसमें कार्यमुक्त होने की अनिवार्यता नहीं थी, लेकिन इस बार सबको अनिवार्य रूप से कार्यमुक्त करने के आदेश दिए गए हैं।