26 separatists from Jammu and Kashmir were brought to Agra jail - जम्मू-कश्मीर के 70 अलगाववादी और आतंकी लाए गए आगरा जेल, इस वजह से उठाया गया कदम DA Image
9 दिसंबर, 2019|1:34|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जम्मू-कश्मीर के 70 अलगाववादी और आतंकी लाए गए आगरा जेल, इस वजह से उठाया गया कदम

jail

करीब 70 आतंकी और कट्टर पाक समर्थक अलगाववादियों को कश्मीर घाटी से आगरा लाया गया है। आतंकवादियों और अलगावादियों को भारतीय वायुसेना के विशेष विमान से आगरा लाया गया है।वायुसेना के विशेष विमान से आए इस समूह को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था के बीच एयरपोर्ट से सेंट्रल जेल पहुंचाया गया। सरकार ने यह कदम कश्मीर घाटी में अमन-ओ-चैन बनाए रखने के मद्देनजर उठाया है। 

डीएम आगरा एनजी रवि कुमार और एसएसपी बबलू कुमार को पहले ही इसकी सूचना दे दी गई थी। उन्हें निर्देश मिले थे कि एयरपोर्ट से सेंट्रल जेल के बीच सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए जाएं। जेल को पुलिस अपने सुरक्षा घेरे में ले ले। सभी बंदियों को हाई सिक्योरिटी सेल में रखा जाए। उनके नाम गोपनीय रखे जाएं।

खेरिया हवाई अड्डे पर विमान आने से पहले पुलिस का काफिला वहां पहुंच गया। तीन पुलिस वैन की जालियों को मोटे कपड़े से ढक दिया गया था ताकि परिंदों को भी अंदर मौजूद अलगाववादियों की झलक न मिल पाए। एयरपोर्ट से सेंट्रल जेल तक गाड़ियों का काफिला बिना बाधा पहुंच सके, इसलिए हर तिराहे-चौराहे पर वीआईपी रूट की तर्ज पर व्यवस्था की गई। सेंट्रल जेल के बाहर भी बड़ी संख्या में पुलिस फोर्स तैनात रही। 

अनुच्छेद 370 : जानें कश्मीर मामले को लेकर क्या बोले भूतपूर्व सैनिक 

जेल में दाखिल होते ही सभी बंदियों की तलाशी ली गई। उसके बाद उनकी एंट्री की गई। सुरक्षा में लगे सूत्रों के मुताबिक, इस समूह में शामिल अलगाववादी पथराव संबंधी घटनाओं में शामिल रहे हैं। उनका इतिहास गड़बड़ी पैदा करने का रहा है। ऐसी आशंका जताई गई थी कि यह समूह अऩुच्छेद 370 हटाने और जम्मू-कश्मीर व लद्दाख के केंद्र शासित घोषित होने के विरोध में कश्मीर घाटी का माहौल अशांत कर सकता है। हालांकि सुरक्षा की दृष्टि से अलगाववादियों की पहचान पूरी तरह से गुप्त रखी गई।

हाई सिक्योरिटी सेल कराई खाली 
सेंट्रल जेल में 30 हाई सिक्योरिटी सेल हैं। जिनमें कुछ बंदी पहले से बंद थे। उन्हें दूसरी बैरकों में शिफ्ट कर खाली करा लिया गया। कश्मीरी बंदियों के आने के बाद सेल के बाहर सुरक्षा और कड़ी कर दी गई है। 

विरोध- धारा 370 हटाना बीजेपी का एजेंडा, एनडीए का नहीं : JDU

सक्रिय रहीं सुरक्षा एजेंसियां
अलगाववादियों की शिफ्टिंग के दौरान पुलिस व प्रशासनिक अधिकारी पूरी सतर्कता के साथ सक्रिय रहे। केंद्रीय और राज्य सरकार की खुफिया एजेंसियां भी पल-पल का अपडेट लेती रहीं। कहीं कोई चूक न रह जाए, इस पर उनका विशेष फोकस रहा। शांतिपूर्वक शिफ्टिंग पर सभी ने राहत की सांस ली।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:26 separatists from Jammu and Kashmir were brought to Agra jail