ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशबिना अनुमति हाईवे किनारे चलते मिले 200 पेट्रोल पंप, कारखाने, स्कूल और अस्पताल, NHI एक्शन में

बिना अनुमति हाईवे किनारे चलते मिले 200 पेट्रोल पंप, कारखाने, स्कूल और अस्पताल, NHI एक्शन में

उत्तर प्रदेश के कानपुर में 200 पेट्रोल पंप, कारखाने, स्कूल और अस्पताल बिना अनुमति हाईवे किनारे चलते मिले। अनुमति न मिलने से एनएचएआई ने अब तक 80 को नोटिस भेजी है।

बिना अनुमति हाईवे किनारे चलते मिले 200 पेट्रोल पंप, कारखाने, स्कूल और अस्पताल, NHI एक्शन में
Deep Pandeyहिन्दुस्तान,कानपुरSun, 25 Feb 2024 10:44 PM
ऐप पर पढ़ें

कानपुर में एनएचएआई के हाईवे के किनारे करीब 200 पेट्रोल पंप, स्कूल, कारखाने और अस्पताल बिना एक्सेस परमिशन के चल रहे हैं। अनुमति न मिलने से एनएचएआई ने अब तक 80 को नोटिस भेजी है। इसके अलावा मंडलायुक्त और पुलिस आयुक्त से भी जानकारी दी है। अब फोर्स के साथ कार्रवाई की जाएगी। हाईवे से आने जाने के अवैध रास्तों को बंद कर दिया जाएगा।  दरअसल, एनएचएआई से हाईवे के किनारे कोई भी कॉमर्शियल इमारत होने पर या निर्माण कराने पर ढाई लाख रुपये फीस जमा कराकर एक्सेस परमीशन लेनी पड़ती है। इसके बाद एनएचएआई उन्हें हाईवे से आने जाने के लिए रास्ता देने का नक्शा बनाकर देता है। इसके अतिरिक्त सर्विस लेन से आने जाने और हाईवे से संपर्क कराने का नक्शा बना देता है, जिससे हाईवे पर जाने और आने में किसी तरह का खतरा नहीं होता है। 

एनएचएआई की एक्सेस परमिशन का प्रावधान हाईवे पर हादसे और लगने वाले जाम को रोकने के लिए किया गया है। एक्सेस परमिशन लेने की ढाई लाख रुपये फीस को बचाने के लिए यह कॉमर्शियल इमारतें खतरा बनी हुई हैं।

अभी अवैध तरीके से हाईवे पर आ रहे हैं इनके वाहन
हाईवे किनारे बनी फैक्ट्रियां, स्कूल, ढाबे आदि के वाहनों के हाईवे पर आने जाने के लिए कोई रास्ता नहीं दिया गया है। इनके वाहन सीधे हाईवे पर आ जाते हैं। जबकि नियम है कि हाईवे से कुछ जगह छोड़कर और कट या सर्विस लेन के माध्यम से ही वाहन हाईवे पर जाएं। अचानक इनके वाहन सीधे हाईवे पर आने से तेज गति से चलने वाले हाईवे के वाहनों की टक्कर से दुर्घटनाएं होती हैं। स्कूली बसें, अस्पताल आने जाने वाली एंबुलेंस, कारखानों के ट्रकों से दुर्घटनाएं हो रही हैं। 

अरौल हादसे वाले स्कूल को नोटिस
कानपुर। आठ फरवरी को कानपुर-अलीगढ़ फोर लेन हाईवे पर अरौल के पास स्कूली वैन के खड़े ट्रक से टकराने पर जीपीआरडी एजुकेशन सेंटर के दो बच्चों की मौत हो गई थी और 11 घायल हो गए थे। हाईवे किनारे बने इस स्कूल ने भी एनएचएआई से एक्सेस परमीशन नहीं ली है। एनएचएआई ने इस स्कूल को भी नोटिस भेजी है।

एनएचएआई के परियोजना प्रबंधक प्रशांत दुबे ने बताया कि हाईवे किनारे 200 से अधिक वाणिज्यिक संस्थान बिना एनएचएआई से एक्सेस परमीशन के चल रहे हैं। अपने मन मुताबिक रास्ता बनाकर हाईवे से आते जाते हैं। खासकर पेट्रोल पंप संचालित हो रहे हैं। 80 को नोटिस भेजकर जवाब मांगा गया है। अब फोर्स मांगकर कार्रवाई की तैयारी की जा रही है। इनके आने जाने का मेन रास्ता बैरिकेडिंग लगाकर बंद कर दिया जाएगा।
 

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें