ट्रेंडिंग न्यूज़

अगला लेख

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

Hindi News उत्तर प्रदेशएक ही दिन दो सिपाहियों ने की आत्महत्या, हरदोई में नदी में कूदा, उरई में थाने में ही गला काटा

एक ही दिन दो सिपाहियों ने की आत्महत्या, हरदोई में नदी में कूदा, उरई में थाने में ही गला काटा

यूपी में एक ही दिन में दो सिपाहियों ने आत्महत्या कर ली। जालौन में एक सिपाही ने थाना परिसर में गला रेतकर खुदकुशी कर ली तो दूसरे ने हरदोई में नदी में कूदकर अपनी जान दे दी।

एक ही दिन दो सिपाहियों ने की आत्महत्या, हरदोई में नदी में कूदा, उरई में थाने में ही गला काटा
Pawan Kumar Sharmaहिन्दुस्तान,उरईSun, 16 Jun 2024 08:00 PM
ऐप पर पढ़ें

यूपी में एक ही दिन में दो सिपाहियों ने आत्महत्या कर ली। एक सिपाही ने नदी में कूदकर अपनी जान दे दी। तो दूसरे ने थाना परिसर में गला रेतकर खुदकुशी की। दोनों के आत्महत्या के बाद पुलिस प्रशासन में हड़कंप मच गया। दोनों सिपाहियों की मौत की वजह स्पष्ट नहीं हो पाई है। फिलहाल मृतकों के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया गया। साथ ही पुलिस मामले की जांच पड़ताल में जुट गई। 

पहला माला उरई का है। जहां थाने के क्वार्टर में सिपाही ने चाकू से गला रेतकर खुदकुशी कर ली। उसका खून में लथपथ पड़ा मिला, हाथ के नीचे चाकू पड़ा था। गला रेतने से पहले उसने रस्सी से फांसी लगाने का भी प्रयास किया, जो गले में पड़ी मिली। घटना की जानकारी के बाद फोरेंसिक टीम के साथ एसपी और एएसपी ने मौके पर पहुंच जांच की। शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। आत्महत्या की वजह स्पष्ट नहीं हो सकी है। 

कन्नौज के रहने वाले वीरेंद्र कुमार की 1995 में पुलिस विभाग में आरक्षी के पद पर तैनाती हुई थी। वह कैलिया थाने में सिपाही था और वहीं अकेला रहता था। दोपहर 11 बजे कुछ दूर निर्माण कार्य में लगे मजदूरों ने छत से क्वार्टर में खून पड़ा देखा। तब इसकी जानकारी थाने में दी गई, जिसके बाद पुलिस ने वहां का नजारा देख अफसरों को सूचना दी। पुलिस वीरेंद्र के क्वार्टर में पहुंची तो उसका शव पड़ा हुआ था। एसपी ईरज राजा के मुताबिक मुख्य आरक्षी द्वारा आत्महत्या की गई है, पहले उसने फांसी लगाकर आत्महत्या करने का प्रयास किया मगर रस्सी टूट जाने के बाद उसने चाकू से गला काट लिया। फिलहाल सभी पहलुओं की जांच की जा रही है, पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद आगे की कार्रवाई की जाएगी। खुदकुशी की वजह स्पष्ट नहीं है, फिलहाल जांच की जा रही है।

निलंबन से परेशान सिपाही ने नदी में कूदकर दी जान

दूसरा मामला हरदोई का है। जहां निलंबन सिपाही के लिए काल बन गया। आहत होकर उसने पिता को फोन किया, फिर गर्रा नदी में छलांग लगाकर जान दे दी। वह पीलीभीत पुलिस लाइन में तैनात था। अरवल थाना क्षेत्र के गांव खद्दी चैनपुर निवासी रामू सिंह वर्ष 2018 में सिपाही पद पर नियुक्त हुआ था। पिता देवेंद्र के मुताबिक एक माह पहले रामू किसी वजह से निलंबित कर दिया गया था। शनिवार देर रात पीलीभीत से हरदोई आया और बरौली में गर्रा नदी के पुल के पास पहुंचा और वहां से फोन किया। रामू ने पिता को फोन कर कहा कि पापा अब वह कभी नहीं मिलेगा। देवेंद्र ने बताया कि बेटा काफी परेशान लग रहा था। उन्होंने समझाने की कोशिश की पर उसने बोलना ही बंद कर दिया। इसके बाद पुल से नदी में छलांग लगा दी।

घबराए परिजन देर रात पुलिस के साथ पुल पर पहुंचे। वहां रामू का पर्स, मोबाइल और गमछा पड़ा हुआ मिला। रात में टॉर्च की रोशनी में रामू की तलाश की गई लेकिन कुछ पता नहीं चल सका। रविवार सुबह गोताखोरों ने पुल से कुछ दूर बहकर पहुंचे शव को बाहर निकाला। एसओ ने बताया कि रामू के शव का पंचनामा भरकर पोस्टमार्टम के लिए भेजा गया है। उसका छोटा भाई श्यामू सिंह बीए का छात्र है।