ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशपिता की शहादत के 19 साल बाद बेटा बना सेना का अफसर, ऐसी है कुशीनगर के कुशाग्र की कहानी

पिता की शहादत के 19 साल बाद बेटा बना सेना का अफसर, ऐसी है कुशीनगर के कुशाग्र की कहानी

शहीद मेजर अमिय त्रिपाठी के बेटे कुशाग्र त्रिपाठी ने शनिवार को पासिंग आउट परेड आफिसर्स प्रशिक्षण अकादमी, गया (बिहार) में भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर 19 सिख रेजीमेंट में कमीशन प्राप्त किया।

पिता की शहादत के 19 साल बाद बेटा बना सेना का अफसर, ऐसी है कुशीनगर के कुशाग्र की कहानी
Ajay Singhहिटी,कुशीनगर गयाSun, 10 Dec 2023 12:41 PM
ऐप पर पढ़ें

Son becomes officer 19 years after father's martyrdom: मेजर पिता के शहीद होने के 19 साल बाद पुत्र ने भी पिता की बटालियन में सैन्य अधिकारी बनने में कामयाबी हासिल की है। कुशीनगर के शहीद मेजर अमिय त्रिपाठी के पुत्र कुशाग्र त्रिपाठी ने शनिवार को पासिंग आउट परेड आफिसर्स प्रशिक्षण अकादमी, गया (बिहार) में भारतीय सेना में लेफ्टिनेंट के पद पर 19 सिख रेजीमेंट में कमीशन प्राप्त किया।

कुशीनगर के कसया के रहने वाले शहीद मेजर अमिय कुमार त्रिपाठी के भाई रिटायर आरटीओ अजय कुमार त्रिपाठी ने बताया कि जब कुशाग्र ढाई साल का था तब 25 मई 2004 को उसके पिता मेजर अमीय त्रिपाठी कुपवाड़ा में आंतकियों से मुठभेड़ में शहीद हो गये। उसके बाद उसकी मां रंजना त्रिपाठी व हमसभी परिवार ने कुशाग्र का ख्याल रखा और उसका लालन-पालन किया।

इसके बाद वर्ष 2019 में उसकी मां को भी कैंसर होने का पता चला और दिसम्बर 2020 में उनका भी निधन हो गया। कुशाग्र ने सेना के प्रति अपने लगाव को बनाए रखा और आज सैन्य अधिकारी बन अपने पिता का नाम रोशन किया। कुशाग्र ने कहा कि आज इस गौरवशाली पल में मां व पिता होते तो यह खुशी दोगुनी होती।

शहीद अमिय के मूल गांव में हर साल होती है मशाल दौड़, क्रिकेट प्रतियोगिता
शहीद अमित के मूल गांव भेलया चंद्रौटा में हर साल लखनऊ से गांव तक मशाल दौड़ का आयोजन होता है। इसके बाद धावक फाजिल नगर पहुंच कर शहीद के नाम से आयोजित क्रिकेट प्रतियोगिता के शुभारंभ की ज्योति इसी मशाल से जलाते हैं।

उत्तर प्रदेश के 63 युवा सैन्य अफसर बने
देहरादून स्थित भारतीय सैन्य अकादमी में शनिवार को पासिंग आउट परेड के बाद सेना को 343 जांबाज मिल गए। यूपी से सबसे अधिक 63 कैडेट पासआउट हुए। मातृभूमि की रक्षा के लिए यह सेना की अलग-अलग कोर में शामिल होकर सरहदों की निगहबानी का जिम्मा उठाएंगे। पीओपी में 12 मित्र राष्ट्रों के 29 जेंटलमैन कैडेट भी पासआउट हुए। श्रीलंका के चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल शेवेंद्र ने परेड की सलामी ली। परेड सुबह 8 बजकर 53 मिनट पर हुई।

शौर्य-संकल्प, कड़ी ट्रेनिंग लेकर बने 121 अफसर
गया ऑफिसर्स ट्रेनिंग अकादमी ने 121 नए सैन्य अफसर दिए हैं। शौर्य-संकल्प और कड़ी ट्रेनिंग के बीच देश को सौंपे गए ये नए सैन्य अफसर भारत मां की सरहदों की रक्षा में अपनी सर्वोच्चता दिखाएंगे। सर्वाधिक कैडेट्स उत्तर प्रदेश के 31 हैं।

हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें