DA Image
9 मई, 2021|1:10|IST

अगली स्टोरी

वाराणसी में 103 साल के महंत ने कोरोना से जीती जंग, BHU में चल रहा था इलाज

103-year-old mahanta win the battle against corona in varanasi undergoing treatment at bhu

वाराणसी में राजराजेश्वरी मंदिर के महंत (103 वर्षीय) शिवशंकर भारतीय उर्फ भारतीय स्वामी ने छह दिन में ही कोरोना को मात दे दी। उन्हें बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्पताल से डिस्चार्ज किया गया। अस्पताल का दावा है कि वह देश के ऐसे पहले वयोवृद्ध पॉजिटिव हैं, जो स्वस्थ हुए हैं।

इसी माह पुणे में रहने के दौरान उनकी तबीयत खराब होने पर भारतीय स्वामी को वहां के एक निजी अस्पताल में भर्ती कराया गया था। वह अस्पताल में कोरोना से संक्रमित हो गए। 14 दिसम्बर को उन्हें पुणे से लाकर बीएचयू अस्पताल के कोविड वार्ड में भर्ती कराया गया। यहां डॉक्टरों की विशेष निगरानी में उनका इलाज हुआ। छह दिन में स्वस्थ होने पर लोगों ने उन्हें बधाई दी।

 

बुजुर्ग संन्यासी को लोग कहते हैं ‘चलते-फिरते विश्वनाथ

राजराजेश्वरी मंदिर के महंत भारतीय स्वामी विगत 60 साल से काशी विश्वनाथ मंदिर की प्रतिदिन की मंगला आरती और भोग आरती में शामिल होते हैं। लॉकडाउन में जब सभी मंदिर आम लोगों के लिए बंद थे, मंदिरों में अर्चक ही पूजा करते थे, उस दौरान भी विश्वनाथ मंदिर में शिवशंकर भारतीय को आने की अनुमति थी। वह कभी आरती नहीं छोड़ते हैं। उनकी आस्था को देखते हुए लोग उन्हें ‘जीवित विश्वनाथ कहते हैं। सरसुंदर लाल अस्पताल के डिप्टी एमएमस प्रो. सौरभ सिंह ने कहा कि भारतीय स्वामी को भर्ती होने के बाद लगातार पांच दिनों तक रेमेडेसिविर इंजेक्शन दिया गया। खून का थक्का रोकने के साथ एंटी वायरल दवाएं भी दी गईं। हर समय पर उन पर कड़ी निगरानी रखी जाती थी। प्रो. सौरभ सिंह ने कहा कि हमारे पूरे स्टाफ के सहयोग से उन्होंने कोरोना को मात दी है। वर्तमान में उन्हें रामकृष्ण मिशन अस्पताल में डॉक्टरों की निगरानी में रखा गया है। पुणे में तबीयत बिगड़ने के बाद भारतीय स्वामी को चार्टर प्लेन से बनारस लाया गया था। इनके कई भक्त देश के विभिन्न हिस्सों में उच्च पदों पर हैं। दो-तीन पहले डीएम कौशलराज शर्मा ने भी बीएचयू अस्पताल में जाकर उनके स्वास्थ्य की जानकारी ली थी।

कोरोना वैक्सीनेशन की तैयारी तेज : 

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कोरोना वैक्सीन की सुरक्षित स्टोरेज और कोल्ड चेन के संबंध में फुलप्रूफ व्यवस्था करने के निर्देश दिए है। कोविड-19 वैक्सीन के स्टोरेज सेंटर में सभी जरूरी इंतजाम किए जाएं। कोरोना वैक्सीनेशन को ध्यान में रखते हुए बायोमेडिकल वेस्ट के समुचित निस्तारण की व्यवस्था अभी से की जाए। मुख्यमंत्री शनिवार को कोरोना वैक्सीनेशन के संबंध में की जा रही व्यवस्थाओं की समीक्षा करते हुए कहा कि वैक्सीन सेंटर पर इसके लगने के बाद संबंधित व्यक्ति के लिए कुछ समय रुकने की व्यवस्था की जाए। उन्होंने वैक्सीन सेंटर पर सुरक्षा के व्यापक इंतजाम किए जाएं। प्रदेश में कोविड-19 का टीकाकरण का काम निर्धारित टाइम लाइन के अनुसार संपन्न कराने के लिए जरूरी है कि पर्याप्त संख्या में वैक्सीनेटर्स की उपलब्धता रखी जाए। जिले स्तर पर प्रशिक्षण कार्यक्रम शुरू हो गए हैं। वैक्सीन लगाने के लिए वैक्सीनेटर्स को तैयार करने का काम पूरी तेजी से चलाए जाएं। केंद्र सरकार कोरोना वैक्सीन की मानकों के अनुरूप स्टोरेज के लिए आईसलैंड रेफ्रिजरेटर और डीपफ्रीजर उपलब्ध करा रही है। प्रदेश में 2.5 लाख लीटर वैक्सीन भंडारण की व्यवस्था हो गई है। वैक्सीनेशन के लिए छह करोड़ सिरिंज की जरूरत होगी। अब तक 4.5 करोड़ सिरिंज का आवंटन कर दिया गया है।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:103-year-old Mahanta win the battle against Corona in Varanasi undergoing treatment at BHU