DA Image
1 दिसंबर, 2020|1:59|IST

अगली स्टोरी

वन विभाग की सख्ती देख ओवरलोड वाहन छोड़कर भागे चालक

वन विभाग की सख्ती देख ओवरलोड वाहन छोड़कर भागे चालक

म्योरपुर-सागोबांध मार्ग पर ओवरलोड बालू लदे वाहनों का परिवहन थमने का नाम नहीं ले रहा है। शनिवार की रात वन विभाग की सख्ती देख ओवरलोड बालू लदे वाहन के चालक वाहन छोड़कर भाग खडे़ हुए। हालांकि इस दौरान विभाग को कोई सफलता नहीं मिली। वहीं एक ही परमिट पर तीन चक्कर बालू परिवहन करने की भी जांच में विभाग जुटा हुआ है। म्योरपुर ब्लॉक के संगोबांध मार्ग पर छत्तीसगढ़ के त्रिशूली स्थित पांगन नदी से ओवर लोड बालू परिवहन कर वाराणसी सहित स्थानीय क्षेत्रों में बालू परिवहन को लेकर डीएफओ एमपी सिंह के निर्देश पर म्योरपुर रेंजर राजेश सोनकर ने शनिवार की रात लीलासी मोड़ पर छापेमारी की, लेकिन एक भी वाहन हाथ नहीं आए। रेंजर श्री सोनकर ने बताया कि टीम को देख चालक वाहन छोड़ भाग खड़े हुए। वन विभाग अब रात में गुजरने वाले ओवरलोड बालू लदे वाहनों पर नजर रखेगा। खास कर ऐसे वाहन जो रेलवे के दोहरीकरण में बिक्री के साथ अन्य कार्यो के लिए वाहन स्वामी और खननकर्ताओ की मिली भगत कर यूपी के राजस्व को भारी नुकसान पहंुचाने में लगे है। वन विभाग ने एक ओवर लोड चौदह चक्का ट्रक शनिवार की रात पकड़ने की कोशिश की पर वह हाथ नही लगा। वन विभाग को चालकों से पूछताछ से पता चला है कि म्योरपुर, बभनी, दुद्धी क्षेत्र में बालू परिवहन के दौरान मिली भगत कर एक परमिट पर दो से तीन चक्कर बालू परिवहन किया जाता है, जिससे राजस्व को भारी नुकसान पहुँच रहा है। वन विभाग का कहना है कि यह मामला खनन और परिवहन विभाग को देखना चाहिए, लेकिन विभाग नहीं पहंुच रहा है तो हम कार्यवाही करेंगे। रेंजर श्री सोनकर ने बताया कि ऐसे वाहनों की पहचान कर ली गयी है जो एक परमिट पर दो से तीन चक्कर बालू परिवहन कर रहे है। इन वाहनों के खिलाफ जल्द कार्यवाही होंगी।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:The driver left the overloaded vehicle in view of the strictness of the forest department