Power shortage in the state due to the closure of two units - दो इकाइयां बंद होने से बढ़ी प्रदेश में बिजली किल्लत DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

दो इकाइयां बंद होने से बढ़ी प्रदेश में बिजली किल्लत

default image

अनपरा के बिजलीघरों की 1100 मेगावाट क्षमता की दो इकाइयां बंद होने से बिजली किल्लत एक बार फिर बढ़ गयी है। शनिवार की सुबह लैंको के अनपरा सी बिजलीघर की 600 मेगावाट क्षमता की पहली इकाई और उत्पादन निगम के अनपरा डी बिजलीघर की 500 मेगावाट की सातवीं इकाई से तकनीकी कारणों से उत्पादन ठप हो गया। कोयला किल्लत व अन्य तकनीकी कारणों से पहले ही 1730 मेगावाट की चार इकाइयां बंद होने से सिस्टम कंट्रोल की मुश्किले काफी बढ़ गयी। बिजली की रोजाना औसत मांग चार सौ मिलियन यूनिट के नीचे पहुंच जाने के बावजूद एनर्जी मार्केट से बिजली खरीदने के बावजूद आपातकालीन कटौती कर हालात सम्भालने पड़े रहे है। यूपी स्टेट लोड डिस्पैच सेंटर के मुताबिक बंद इकाइयों के लगभग दो से तीन दिन में पुन:उत्पादनरत होने की उम्मीद है जिसके बाद पुन: हालात सामान्य हो जाएंगे। सिस्टम कंट्रोल के मुताबिक प्रात:लगभग 11.50 पर 600 मेगावाट की पहली इकाई से ब्वायलर ट्यूब लिकेज के कारण उत्पादन बंद करना पड़ा है। बिजलीघर में कोयले की कमी के कारण हालांकि अब तक बिजलीघर से औसतन हजार मेगावाट ही उत्पादन किया जा रहा था लेकिन पीक आवर्स में पूर्ण क्षमता से मशीनें चलाने से हालात सम्भालने में काफी सहायता प्राप्त हो रही थी। अब इकाई के 72 घंटे में फिर चालू होने की सम्भावना है। अनपरा डी की भी दूसरी इकाई तकनीकी कारणों से बंद होने की सूचना है जिसे सोमवार तक उत्पादनरत कर लिया जायेगा।

इन इकाइयों के बंद होने से और बढ़ीं मुश्किलें

इन दो इकाईयों के बंद होने से पहले ही एलपीजीसीएल ललितपुर की 660 मेगावाट की पहली इकाई 15 सितम्बर से ही कोयले की किल्लत से बंद चल रही है। एनटीपीसी और उत्पादन निगम के संयुक्त उपक्रम वाली मेजा बिजलीघर की भी 660 मेगावाट की पहली इकाई 18 सितम्बर को ब्वायलर ट्यूब लिकेज के बाद बंद करनी पड़ी थी जिसे अब कल तक चालू करने की कोशिशें की जा रही हैं। निजी क्षेत्र के रिलायंस रोजा की 300 मेगावाट की चौथी इकाई भी ट्यूब लिकेज के कारण 19 सितम्बर को बंद कर दी गयी थी जिसे शनिवार को चालू करना था लेकिन कोयला किल्लत के कारण अभी चालू नहीं किया जा सका है। उत्पादन निगम के पारीछा बिजलीघर की 15 सितम्बर से बंद चल रही 110 मेगावाट की दूसरी इकाई को चलवाने के प्रयास किये जा रहे है। एनटीपीसी के सिंगरौली बिजलीघर की 200 मेगावाट की पांचवीं इकाई और टांडा बिजलीघर की 110 मेगावाट की दूसरी इकाई के वार्षिक अनुरक्षण केकारण बंद कर दिये जाने से मुश्किलों में और इजाफा हो गया है।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Power shortage in the state due to the closure of two units