DA Image
5 दिसंबर, 2020|5:17|IST

अगली स्टोरी

बहुअरा गांव से गरीबों को उजाड़ने का विरोध

बहुअरा गांव से गरीबों को उजाड़ने का विरोध

समाजवादी पार्टी का एक प्रतिनिधिमंडल बहुआरा गांव के बाप-दादा के जमाने से बसे लोगों को उजाड़ने का विरोध करते हुए मंगलवार को डीएम से मिला। उन्हें उक्त लोगों को न उजाड़े जाने को लेकर ज्ञापन सौंपा।

इस दौरान समाजवादी पार्टी जिला अध्यक्ष विजय यादव ने बताया कि बहुआरा गांव में जनता 50 वर्ष से अपने परिवार के साथ रह रही है। उस जमीन पर गरीबों को लगभग 20 से 25 प्रधानमंत्री ग्रामीण आवास मिला हुआ है। 50 से 60 लोगों को ग्राम पंचायत से शौचालय बनाया गया है। उक्त जमीन पर 65 परिवार रहते हैं। इस परिवार के सदस्यों की संख्या लगभग पांच सौ है। अब उक्त जमीन को ग्राम समाज की बता कर उन्हें उजाड़ा जा रहा है। घोरावल के पूर्व विधायक रमेश चंद दुबे ने बताया कि वह जमीन सरकारी है तो उस जमीन पर इन गरीबों को आवास एवं शौचालय क्यों दिया गया, इसकी भी जांच होनी चाहिए । बताया कि उस बस्ती में सरकारी आवास, शौचालय ,सड़क, बिजली , रोड के कार्य हुए हैं। यदि इन गरीबों को वहां से उजाड़ना था तो इन गरीबों को सरकारी व्यवस्था क्यों दिया गया। श्री दुबे ने कहा कि हम जिलाधिकारी से मांग करते हैं कि गरीबों को न उजाड़ा जाय। जबकि इस बस्ती में कॉल, चमार, यादव, कुशवाहा, पटेल, विश्वकर्मा, बिंद, मुसलमान के साथ सभी जाति के निवास करते हैं। इस दौरान पूर्व विधायक रमेश चंद दुबे, जिला महासचिव मोहम्मद सईद कुरैशी, जिला उपाध्यक्ष रमेश सिंह यादव, सदर ब्लॉक अध्यक्ष अशोक पटेल, बहुआरा गांव की गरीब जनता साथ रही।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Opposition to destroy the poor from Bahura village