DA Image
26 अक्तूबर, 2020|8:21|IST

अगली स्टोरी

सरकार ऊर्जा निगमों में थोप रही हड़ताल: शैलेन्द्र दुबे

सरकार ऊर्जा निगमों में थोप रही हड़ताल: शैलेन्द्र दुबे

1 / 2पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण को लेकर ऊर्जानिगम प्रबन्धन और विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उप्र में टकराव बेहद गम्भीर हालात में पहुंच गया है। संघर्ष समिति के संयोजक शैलेन्द्र दुबे की...

सरकार ऊर्जा निगमों में थोप रही हड़ताल: शैलेन्द्र दुबे

2 / 2पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण को लेकर ऊर्जानिगम प्रबन्धन और विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उप्र में टकराव बेहद गम्भीर हालात में पहुंच गया है। संघर्ष समिति के संयोजक शैलेन्द्र दुबे की...

PreviousNext

पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण को लेकर ऊर्जानिगम प्रबन्धन और विद्युत कर्मचारी संयुक्त संघर्ष समिति उप्र में टकराव बेहद गम्भीर हालात में पहुंच गया है। संघर्ष समिति के संयोजक शैलेन्द्र दुबे की अगुवाई मे केंद्रीय पदाधिकारियों ने गुरुवार सुबह अनपरा परियोजना गेट विरोध सभा में निजीकरण की सरकार की नीति पर जमकर हल्ला बोला। निजीकरण को सत्ता में बैठे पूंजीपतियों के दलालों के दिमाग की उपज बताते हुए भारी संख्या में मौजूद अभियन्ता-कर्मियों से आगामी पांच अक्टूबर से कार्यबहिष्कार आन्दोलन में पूरी ताकत दिखाने की अपील की। वाराणसी एवं प्रयागराज में दो दिन पूर्व शांतिपूर्ण मशाल जुलूस निकाल रहे बिजली कर्मियों पर नामजद एफ आई आर की संघर्ष समिति ने घोर निन्दा की ।आगाह किया कि दमनात्मक स्थिति पैदा की तो सम्पूर्ण हड़ताल और जेल भरो आंदोलन प्रारम्भ होगा। संयोजक शैलेन्द्र दुबे ने कहा कि सरकार ने नेशनल लोड डिस्पैच सेंटर और उत्तरी क्षेत्र लोड डिस्पैच सेण्टर को गुरुवार को संदेश भेजकर 05 अक्टूबर से हड़ताल संभावित बतायी है। बिजली आपूर्ति सुनिश्चित करने वाली इन राष्ट्रीय और उत्तर क्षेत्रीय सिस्टम कट्रोल संस्थाओं को यह संदेश देना कि उप्र में 05 अक्टूबर से हड़ताल हो रही है इस बात का स्पष्ट संकेत है कि सरकार का निजीकरण को लेकर हठवादी रवैय्या कायम है और सरकार हड़ताल थोपना चाहती है। 05 अक्टूबर से पूर्ण कार्यबहिष्कार का निर्णय है किन्तु सरकार ने संघर्ष समिति से वार्ता तक करना उचित नही समझा है। एनटीपीसी और पॉवर ग्रिड को भी 05 अक्टूबर से उप्र में कार्य सँभालने के लिए एलर्ट कर दिया गया है। लखनऊ में हड़ताल से निपटने के लिए प्रात: 08 बजे से ही सरकार और प्रबंधन में वार्ता जारी है। जूनियर इंजीनियर संगठन के अध्यक्ष इं जी वी पटेल ने ब अभियंता संघ के महासचिव इं प्रभात सिंह ने कहा कि यह आपात परिस्थितियाँ हैं और हमारा संकल्प है कि हम अरबों खरबों रु की सार्वजनिक क्षेत्र की पॉवर कारपोरेशन की परिसंपत्तियों को कौड़ियों के मोल किसी भी कीमत पर निजी घरानों को हस्तांतरित नही होने देंगे। अनपरा परियोजना गेट पर हुई सभा को शैलेन्द्र दुबे, प्रभात सिंह, जी वी पटेल, रोहित राय, आलोक कुमार श्रीवास्तव, डी पी पांडेयमनिंद्र नाथ, ए के राय, अजय कुमार सिंह, पी ए गुप्ता, पी पी त्रिपाठी, अवधराज सिंह, मनीष श्रीवास्तव, हरिशंकर चौधरी, अभिषेक बरनवाल, सुशील श्रीवास्तव, शारदा प्रसाद, सत्यम यादव, विवेक सिंह, राजकुमार सिंह, रविन्द्र जायसवाल, बृजेश शर्मा, अनिल यादव आदि ने मुख्यतया सम्बोधित किया।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Government imposing strike in energy corporations Shailendra Dubey