ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश सोनभद्रबारिश होने से 10 से 15 प्रतिशत उत्पादन बढ़ने की जगी उम्मीद

बारिश होने से 10 से 15 प्रतिशत उत्पादन बढ़ने की जगी उम्मीद

सोनभद्र। जिले में शनिवार की सुबह व रात में हुई बारिश फसलों में अमृत बनकर

बारिश होने से 10 से 15 प्रतिशत उत्पादन बढ़ने की जगी उम्मीद
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,सोनभद्रSun, 23 Jan 2022 04:50 PM

सोनभद्र। जिले में शनिवार की सुबह व रात में हुई बारिश फसलों में अमृत बनकर बरसी है। इससे किसान खुश हैं तो फसलों के उत्पादन में भी दस से पंद्रह प्रतिशत का इजाफा होने की उम्मीद है। हालांकि रविवार की सुबह मौसम खुल गया और धूप निकल आई। बारिश होने से कुछ दिन सर्दी का असर और रहेगा, जो फसलों के लिए बेहतर साबित होगा।

जनपद में रबी की फसल की एक लाख छह हजार 425 हेक्टेयर पर गेहूं, सरसों, जौ, चना, मटर व मसूर सहित कई फसलों की बुआई की गई है। जिले के नगवां, म्योरपुर, बभनी ब्लाक समेत कई कई ऐसे इलाके हैं जहां पर किसान बारिश के पानी पर ही आश्रित रहते हैं। अगर बारिश नहीं होती है फसलों के उत्पादन कम होने की संभावना रहती है। इन दिनों किसानों को बारिश का बेसब्री से इंतजार होता है। यह बारिश न केवल पानी का बल्कि फर्टीलाइजर का भी काम करती है। बारिश होने से फसल का उत्पादन विभाग के मुताबिक दस से पंद्रह प्रतिशत तक बढ़ जाता है। शनिवार की दोपहर बाद से ही अचानक मौसम ने करवट लिया और कई क्षेत्रों में बूंदाबांदी शुरू हो गई। इसके बाद करीब तीन बजे के बाद फिर से धूप खिल गई। रात करीब नौ बजे के बाद फिर से आसमान में बादलों ने डेरा जमा लिया और बारिश शुरू हो गई। जिले के सभी ब्लाकों में कहीं तेज तो किसी जगह हल्की बारिश पूरी रात हुई। बारिश ने किसानों की मुराद पूरी कर दी और फसलों में अमृत बनकर बरसी है। खेत में नमी होते ही सुबह से ही किसान फसलों में उर्वरक डालने का काम शुरू कर दिए। नगवां के किसान रविंद्र शुक्ल, धीरेंद्र पटेल, सत्येंद्र ने बताया कि यह बारिश सभी फसलों के लिए फायदेमंद होगी। गेहूं व जौ के लिए तो बारिश बहुत बेहतर साबित हुई है। अब मौसम खुल गया है। अब किसी प्रकार का डर नहीं है। सब कुछ ठीक रहा तो इस बार फसल बेहतर होगी। किसानों ने बताया कि बारिश ने पानी का नहीं खाद का काम भी किया है। इन दिनों बारिश हो जाए तो निश्चित तौर पर फसल अच्छी होती है।

epaper