DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  सोनभद्र  ›  ऊर्जा क्षेत्र के शीर्ष प्रबंधन में बिजली इंजीनियर हो तैनात
सोनभद्र

ऊर्जा क्षेत्र के शीर्ष प्रबंधन में बिजली इंजीनियर हो तैनात

अनपरा। निज संवाददाताPublished By: Malay
Sat, 15 Sep 2018 05:53 PM
ऊर्जा क्षेत्र के  शीर्ष प्रबंधन में बिजली इंजीनियर हो तैनात

बिजली अभियंताओं ने प्रदेश के मुख्य मंत्री योगी आदित्य नाथ से मांग की है कि ऊर्जा क्षेत्र के  शीर्ष प्रबंधन में बिजली इंजीनियरों को तैनात किया जाए और तकनीकी दृष्टिकोण से  सही नीति निर्धारण के लिये  प्रमुख सचिव पद पर भी योग्य व अनुभवी अभियंता तैनात किये जाये। 

ऑल इण्डिया पावर इन्जीनियर्स फेडरेशन के चेयरमैन शैलेन्द्र दुबे , अभियंता संघ के अध्यक्ष जी के मिश्र एवं महासचिव राजीव सिंह ने अभियंता संघ की केंद्रीय कार्यकारिणी और अभियन्ता दिवस पर विद्युत् अभियंताओं को सम्बोधित करते हुए  कहा कि विश्व भर में तीव्र गति से हो रहे तकनीकी विकास व बदलाव को देखते हुए इंजीनीयरिंग विभागों  को आईएएस अधिकारियों के भरोसे चलाया जाना संभव नहीं है । उन्होंने कहा कि 1973 से वर्ष 2000 तक उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत् परिषद् के अध्यक्ष पद पर विशेषज्ञ बिजली इंजीनियर तैनात किये जाते थे और अधिकांश प्रमुख सचिव पद पर भी इंजीनियर ही रहते थे।  तकनीकी विशेषज्ञों की सलाह के विपरीत वर्ष 2000 में उत्तर प्रदेश राज्य विद्युत् परिषद् को विघटित कर निगमीकरण कर दिया गया और सभी बिजली निगमों में आई ए एस अधिकारी तैनात कर दिए गए परिणामस्वरूप बिजली वितरण का घाटा 77 करोड़ रु से बढ़ कर 77000 करोड़ रु तक पहुँच गया है और बिजली निगम आर्थिक तौर  पर कंगाल होते जा रहे हैं। इस दौरान दर्जनों आई ए एस अधिकारी आये और चले गए किन्तु हालात बिगड़ते ही जा रहे हैं ।

संबंधित खबरें