ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेश सीतापुरनैमिषारण्य में जुड़ीं एक और मणि,मां राजराजेश्वरी- सीएम

नैमिषारण्य में जुड़ीं एक और मणि,मां राजराजेश्वरी- सीएम

नैमिषारण्य संवाददाता। स्कंदाश्रम में मां राजराजेशवरी की प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने को...

नैमिषारण्य में जुड़ीं एक और मणि,मां राजराजेश्वरी- सीएम
हिन्दुस्तान टीम,सीतापुरWed, 21 Feb 2024 11:05 PM
ऐप पर पढ़ें

नैमिषारण्य संवाददाता। स्कंदाश्रम में मां राजराजेशवरी की प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल होने को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने संतों को साधुवाद दिया। उन्होंने कहा कि आयोजन में शामिल होकर वह अपने को धन्य समझते हैं जो यह सुअवसर मिला है। संतों का वंदन व अभिनंदन जो उन्होंने मुझे सुख अनभूति कराई।

प्राण प्रतिष्ठा अनुष्ठान के बाद उन्होंने कहा कि नैमिष में चक्रतीर्थ, सूत जी महाराज, मां ललिता देवी जैसे अनेक पौराणिक मंदिर हैं। इसमें आज एक और मणि जुड़ गई है। यह मां का मंदिर है। यह सभी के लिए शुभ संकेत है। उन्होंने आश्रम के भीतर बने मंदिर में विराजमान होने वाली मां स्कंद माता मंदिर के मुख्य द्वार यानि प्रवेश द्वार ( गोपुरम) का वैदिक मन्त्रों के द्वारा उद्घाटन किया। इस दौरान मुख्यमंत्री के आश्रम पहुंचने पर महंत हीरापुर ने उनका स्वागत कर उनसे भेंट की। आश्रम में मौजूद देश के अनेक नामचीन संतों से मिले। संतों एवं हीरापुर महराज के साथ मुख्यमंत्री ने यज्ञशाला में आहूतियां डाली फिर राजराजेश्वरी मां के दर्शन कर प्रक्रिमा की उसके बाद मंच पर ग‌ए। जहां पर भारत के सुप्रसिद्ध संतों से भेंट वार्ता की। मुख्यमंत्री के मंच पर पहुंचते ही वहां पर मौजूद संत समुदाय एवं जनसमुदाय ने एक स्वर में जय श्री राम के जयघोष से उनका स्वागत किया। उन्होंने एक एक संतों का आभार जताया। उन्होंने कहा कि धार्मिक आयोजन सही मार्ग पर चलने की सीख देते हैं।

तय कार्यक्रम से आधा घंटे अधिक रहे

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने तय कार्यक्रम से आधा घंटे अधिक रहे। उन्हें लगभग ढाई बजे तक वापस होना था मगर तीन बजे तक वह वापस हो पाए। इससे पूर्व तीर्थ में सुरक्षा के कड़े इंतजाम किए गए थे। हेलीपैड से लेकर कार्यक्रम स्थल तक कड़ी सुरक्षा रही। यह पहला मौका है जब सीएम नैमिष में किसी मंदिर की प्राण प्रतिष्ठा समारोह में शामिल हो रहे हैं।

यह धर्म भूमि है- नरेन्द्र सिंह तोमर

मध्य प्रदेश विधानसभा अध्यक्ष नरेन्द्र सिंह तोमर ने कहा कि नैमिष धर्म भूमि है। स्वामी हीरापुर वाले व सभी संतों का हार्दिक स्वागत है। उनका आशीर्वाद लेने आए हैं। उन्होंने कहा कि हम सभी आज सनातन धर्म की ओर उन्मुख हो रहे हैं। यह तीर्थ ऋषियों की तीर्थ है। तीर्थ में एक और मां के मंदिर की स्थापना हो गई।

लोक कल्याण व राष्ट्र कल्याण एक-दूसरे के पूरक हैं

सीएम योगी ने कहा कि पीएम मोदी के नेतृत्व में चलने वाले कार्यक्रम का उद्देश्य जाति, पंथ-वेशभूषा, खानपान से ऊपर उठकर देश के बारे में सोचें। देश हमारे लिए पहले है। मेरी साधना व वैभव देश हित में लगे, जिस दिन हर भारतवासी इस भाव से कार्य करना प्रारंभ कर देगा, भारत को दुनिया की सबसे बड़ी ताकत के रूप में स्थापित होने से कोई रोक नहीं सकता।

लोककल्याण के लिए जगदम्बा राजराजेश्वरी है

सीएम ने कहा कि देश, समाज व लोक की व्यवस्था को लोककल्याण के पथ पर उन्मुख करने के लिए जिस देवी का अनुष्ठान करते हैं, वह जगदंबा राजराजेश्वरी है। जो सबको नियंत्रित कर सन्मार्ग पर ले चलने की प्रेरणा प्रदान करती है। नैमिष तीर्थ के महात्म्य को ध्यान में रखकर सरकार ने अनेक कदम उठाए हैं। इसे तीर्थ के रूप में विकसित करने की कार्रवाई चल रही है।

इनकी रही मौजूदगी

मध्य प्रदेश के विधानसभा अध्यक्ष नरेंद्र सिंह तोमर ने भी विचार रखे। इस दौरान संत स्वामी सनमुखानंद पुरी महराज, अयोध्या से आए जगदगुरु रामानुजाचार्य सुग्रीव किलाधीश विश्वेश प्रपन्नाचार्य, कामदगिरी पीठाधीश्वर रामस्वरूपाचार्य महाराज, नरसिंह पीठाधीश्वर नरसिंह दास, स्वामी विद्या चैतन्य महराज, सांसद अशोक रावत, विधान परिषद सदस्य पवन सिंह चौहान, विधायक रामकृष्ण भार्गव, मनीष रावत, निर्मल कुमार वर्मा, ज्ञान तिवारी, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रद्धा सागर, भाजपा जिलाध्यक्ष राजेश शुक्ला, मध्य प्रदेश के पूर्व मंत्री रामपाल सिंह आदि उपस्थित रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें