ट्रेंडिंग न्यूज़

Hindi News उत्तर प्रदेशवसुदेव व देवकी विवाह का मंचन देख मंत्रमुग्ध हुए श्रद्धालु

वसुदेव व देवकी विवाह का मंचन देख मंत्रमुग्ध हुए श्रद्धालु

22 एसआईडीडी 03: भनवापुर क्षेत्र के महादेव गजपुर गांव में नौ दिवसीय शतचंडी महायज्ञ के दूसरे दिन बुधवार रात वृंदावन से आए बाल कलाकारों ने रासलीला का...

वसुदेव व देवकी विवाह का मंचन देख मंत्रमुग्ध हुए श्रद्धालु
हिन्दुस्तान टीम,सिद्धार्थFri, 23 Feb 2024 02:15 AM
ऐप पर पढ़ें

सोहना। हिन्दुस्तान संवाद
भनवापुर क्षेत्र के महादेव गजपुर गांव में चल रहे नौ दिवसीय शतचंडी महायज्ञ के दूसरे दिन बुधवार रात वृंदावन से आए बाल कलाकारों ने रासलीला

में वसुदेव और देवकी के विवाह का मंचन किया। इसे देख श्रद्धालु मंत्रमुग्ध हो गए।

बाल कलाकारों ने दिखाया कि मथुरा के राजा अग्रसेन बूढ़े हो चुके हैं। वह सारा राजपाठ कंस को सौंपना चाहते हैं। कंस से वे कहते हैं कि वह ब्राह्मण,

गाय, साधु, संत, हरि भक्तों आदि का सम्मान करे। ऐसा सुन कंस झल्ला उठता है। राजपाठ संभालने के बाद वह नागरिकों व साधू-संतों को परेशान करता है। कुछ समय बाद कंस की बहन देवकी का विवाह वसुदेव के साथ होता है। कंस दोनों को विदा करने जाता है। रास्ते में आकाशवाणी होती है कि हे कंस जिस बहन का विवाह धूमधाम से कर रहे हो, उसी का आठवां पुत्र तेरा वध करेगा। ऐसा सुनकर कंस क्रोधित हो उठता है और देवकी को मारना चाहता है। इस पर वसुदेव कंस को रोक लेते हैं। कंस व वसुदेव के बीच समझौता होता है कि उनके जितने भी बच्चे होंगे, वे उन्हें कंस को सौंप देंगे। इस पर कंस राजी हो गया और बहन व वसुदेव को जेल में डाल देता है। इस मौके पर यज्ञाचार्य दुर्गेश शुक्ल,जगराम यादव, बब्बू पाण्डेय, सुनील विश्वकर्मा, भागमन चौरसिया, बालक मौर्य आदि मौजूद रहे।

यह हिन्दुस्तान अखबार की ऑटेमेटेड न्यूज फीड है, इसे लाइव हिन्दुस्तान की टीम ने संपादित नहीं किया है।
हिन्दुस्तान का वॉट्सऐप चैनल फॉलो करें