DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  श्रावस्ती  ›  जर्जर तारों पर दौड़ाई जा रही बिजली, हादसे की आशंका
श्रावस्ती

जर्जर तारों पर दौड़ाई जा रही बिजली, हादसे की आशंका

हिन्दुस्तान टीम,श्रावस्तीPublished By: Newswrap
Mon, 14 Jun 2021 07:50 PM
जर्जर तारों पर दौड़ाई जा रही बिजली, हादसे की आशंका

श्रावस्ती। संवाददाता

जिले की बिजली व्यवस्था बेपटरी नजर आ रही है। कहीं ट्रांसफार्मर खराब होने पर महीनों तक नहीं बदले जा रहे हैं तो कहीं जर्जर तारों में बिजली दौड़ाई जा रही है। लेकिन विभागीय अधिकारी कर्मचारी मामले से अनजान बने रहते हैं।

विकास क्षेत्र सिरसिया के जोखवा बाजार में लगा हाईटेंशन लाइन के तार जर्जर हो चुके हैं। इसके बाद भी उसी तार के सहारो लोगों को बिजली सप्लाई दी जा रही है। बाजारों में दौड़ रहे हाईटेंशन तार पूरी तरीके से जर्जर हो चुके हैं। लेकिन इन जर्जर तारों को ना हीं बदला जा रहा है ना ही ठीक किया जा रहा है। जिसके चलते आये दिन शॉर्ट सर्किट के मामले देखने को मिलते हैं। रविवार की रात भी कुछ ऐसा ही नजारा देखने को मिला जब एक बड़ा हादसा होते होते बच गया। जर्जर तारों में अचानक शार्ट सर्किट हुई तो तार जलते लगा। साथ ही आग की चिंगारी जमीन पर गिरने लगी। जिसे देख बाजार में अफरा तफरी मच गई। लोगों ने आनन फानन में विद्युत उपकेन्द्र को सूचित किया। इसके बाद लाइन बंद कर दी फिर लाइन को आगे से अलग कर बिजली आपूर्ति शुरू कराई गई। हालाकि कि इस दौरान बड़ा हादसा होते होते बच गया। लोगों की माने तो बाजार में लगे जर्जर तारों से हमेश की हादसे की आशंका बनी रहती है। इसके बाद भी विभाग की ओर से तार नहीं बदले जा रहे हैं। लोगों को डर इस बात का है कि कहीं किसी दिन विभागीय उदासीनता लोगों पर भारी न पड़ जाय। लोगों ने तारों को बदलवाने की मांग की है।

जमुनहा में छह बार जल चुकी है केबिल

जमुनहा। जमुनहा बाजार में वर्षो पुराना खम्भा लगा हुआ है। पहले इसमे पतली केबल लगाकर लोगों को बिजली सप्लाई दी जा रही थी। लेकिन कुछ वर्ष पूर्व हटाकर मोटी केबल लगा दिया गया था। लेकिन मोटी व भारी केबल को भी पुराने व जर्जर खम्भों के सहारे टांग कर सप्ताई दी जा रही है। जमुनहा के मुख्य चौक से भरत मिलाप जाने वाले मार्ग पर एक महीने में लगभग आधा दर्जन बार केबिल धूं धूं करके जलकर जमीन पर गिरी है। इससे बिजली सप्लाई बाधित हो जा रही है। व्यापारी जमील अहमद, मनोज गुप्ता, पवन नाग, भोला गुप्ता, बावन अहमद, गुड्डू, पटवारी आदि ने केबिल और खंभों को बदलवाने की मांग की है।

संबंधित खबरें