DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › शामली › जिपं बोर्ड बैठक: पहली बैठक में करोड़ों के प्रस्ताव पास, विपक्षी नाराज
शामली

जिपं बोर्ड बैठक: पहली बैठक में करोड़ों के प्रस्ताव पास, विपक्षी नाराज

हिन्दुस्तान टीम,शामलीPublished By: Newswrap
Mon, 11 Oct 2021 06:15 PM
जिपं बोर्ड बैठक: पहली बैठक में करोड़ों के प्रस्ताव पास, विपक्षी नाराज

जिला पंचायत की बोर्ड की पहली बैठक में बिना किसी हंगामे के करोड़ों रुपये के कार्यों के प्रस्ताव पास हो गए। उधर, विपक्षी दलों के सदस्यों ने आरोप लगाया कि सत्तापक्ष के सदस्यों को तो बिना किसी चर्चा के पास कर बोर्ड बैठक में अधिकारियों के न पहुंचने पर भी कडी नाराजगी व्यक्त की गई जिसमें सीडीओ ने सीएम की वीसी होने का हवाला देते हुए बोर्ड को शांत किया।

सोमवार को जिला पंचायत की बोर्ड बैठक विकास भवन में जिला पंचायत अध्यक्ष मधु गुर्जर की अध्यक्षता में आयोजित की गई। जिसमें जनपद के विभिन्न विभार्गो के अधिकारियों से योजनाओं पर चर्चा की गई। वित्तीय वर्ष 2021-22 के विभव एवं सम्पत्ति कर की प्रस्तावित सूची के अनुमोदन पर विचार करते हुए कर दाताओं की बकाया सूची बताई गई। अपर मुख्य अधिकारी मुकेश जैन ने जिला पंचायत के वर्ष 2021-22 में पंचम राज्य वित्त एवं पंद्रहवा वित्त अन्तर्गत होने वाले अनुदान की कार्ययोजनाओं के बारे में बताया। इस दौरान सत्ता पक्ष के सदस्यों द्वारा दिए गए प्रस्तावों को बिना किसी विरोध के पास कर दिया गया, जबकि विपक्षी सदस्यों द्वारा दिए गए प्रस्तावों को नकार दिया गया। इसके बाद जिला पंचायत सदस्य उमेश कुमार ने सिंचाई विभाग पर सवाल उठाते हुए कहा कि गांव भैसवाल में जाने वाले एक मात्र रास्ते का पुल पिछले एक वर्ष से टूटा है, लेकिन आज तक कोई कार्यवाही नही की गई। ब्लॉक प्रमुख कांधला विनोद मलिक ने जिला समाज कल्याण अधिकारी पर वृद्धावस्था पेंशन में घोटाला करने का आरोप लगाया। उन्होने कहा कि जिला समाज कल्याण विभाग द्वारा जिंदा लोगों को मृतक दर्शाकर उनकी पेंशन बंद कर दी है। जिसकी जांच कराकर संबंधित अधिकारी के खिलाफ कार्यवाही की जाये। वही गांव भारसी की टूटी सडक व अंडरपास में भरने वाली पानी से होने वाली परेशानियों को भी उठाया गया। इस अवसर पर विपक्षी सदस्यों ने कहा कि बोर्ड बैठक में सत्ता का दुरूप्रयोग करते हुए अपने-अपने प्रस्ताव बिना सदस्यों की सहमति के ही पास किए गए, जबकि विपक्ष द्वारा दिए गए किसी भी प्रस्ताव को पास नही किया गया। प्रस्ताव ग्रामीण क्षेत्रों में किस स्थान पर है इसकी भी जानकारी नही दी गई। बैठक में ज्यादातर अधिकारी अनुपस्थित रहे, जिस पर एमएलसी विरेन्द्र सिंह ने कडी नाराजगी जाहिर की। इस बाबत सीडीओ शंभुनाथ तिवारी ने बताया कि मुख्यमंत्री की वीसी होने के चलते कई अधिकारी उपस्थित नहीं हो चके। इस अवसर पर सांसद प्रदीप चौधरी, विधायक तेजेन्द्र निर्वाल, एमएलसी विरेन्द्र सिंह, सीडीओ शंभूनाथ तिवारी, शैफाली चौहान, शर्मिष्ठा, नीरज, डोली, सुमन, बबली, नफीसा, फरजाना, अनिल कुमार, अंजलि, ओमवती, सीमा, अजीम, परवेज, विनोद, अरविन्द, अमित, उमेश कुमार आदि मौजूद रहे।

संबंधित खबरें