DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  शामली  ›  जहानपुरा नहीं पहुंचा मुकीम काला का शव

शामलीजहानपुरा नहीं पहुंचा मुकीम काला का शव

हिन्दुस्तान टीम,शामलीPublished By: Newswrap
Sat, 15 May 2021 07:32 PM
जहानपुरा नहीं पहुंचा मुकीम काला का शव

चित्रकूट जेल में मारे गए वेस्ट यूपी के कुख्यात बदमाश मुकीम काला का शव उसके पैतृक गांव जहानपुरा में शनिवार शाम तक नहीं पहुंच सका। गत दिवस मुकीम की हत्या की खबर आने के बाद ग्रामीणों ने खंडहर बन चुके उसके घर की सफाई भी कर दी थी। कहा यह जा रहा है कि शव को हरियाणा में रहने वाले मामा के गांव में ले जाया जा सकता है।

शुक्रवार को चित्रकूट जेल में गैंगवार के चलते कैराना कोतवाली क्षेत्र के गांव जहानपुरा निवासी दुर्दांत अपराधी मुकीम काला की हत्या कर दी गई थी। इसके बाद उसके गांव में सन्नाटा पसर गया था। मुकीम काला का परिवार गांव में नहीं रहता है, इसलिए कुछ ग्रामीणों ने खंडहर में तब्दील होते जा रहे उसके घर की साफ-सफाई भी कर दी थी। कयास यह लगाए जा रहे थे कि मुकीम काला के शव को गांव में लाया जा सकता है। शनिवार को शाम तक भी मुकीम का शव गांव में नहीं पहुंचा। यहां उसके परिवार के सदस्य भी नहीं आए हैं। हालांकि, मुकीम के शव को चित्रकूट में उसके परिजनों को सौंपा गया है। बताया जा रहा है कि मुकीम काला के शव को हरियाणा के पानीपत जिले के गांव अधमी में ले लाया जा सकता है। इस गांव में मुकीम काला के मामा के रहने की बात कही जा रही है। इधर, गांव जहानपुरा में दूसरे दिन भी सन्नाटा पसरा रहा। मुकीम काला का खंडहर में तब्दील हो रहा घर और गलियां सुनसान नजर आई।

दूसरी पिस्टल का रहस्य सुलझा या नहीं चार्ज रिपोर्ट से चलेगा पता

- मुन्ना बजरंगी हत्याकांड का मामला

खेकड़ा। संवाददाता

पूर्वांचल के डॉन मुन्ना बजरंगी हत्याकांड के मामले में सीबीआई टीम ने दूसरी पिस्टल का रहस्य सुलझाने मे काफी माथापच्ची की। रहस्य सुलझा या नहीं इसका खुलासा चार्ज रिपोर्ट से ही हो सकेगा।

बता दें कि 9 जुलाई 2018 को बागपत की जिला जेल में पूर्वांचल के डॉन मुन्ना बजरंगी की गोलियों से भूनकर हत्या कर दी गई थी। इस हत्याकांड में तत्कालीन जेलर यूपी सिंह ने वेस्ट यूपी के कुख्यात बदमाश सुनील राठी के खिलाफ खेकड़ा थाने पर रिपोर्ट दर्ज कराई थी। सीबीआई को हत्याकांड दो पिस्टलो का प्रयोग किए जाने की शंका थी। उसकी शंका की वजह पूरनपुर नवादा गांव के युवक अंकित का सीबीआई निदेशक को भेजा गया पत्र था। अंकित ने पिस्टल के बारे में जानकारी दी थी। उसका कहना था कि जिस पिस्टल से मुन्ना बजरंगी की हत्या की गई, वह पिस्टल हवन सामग्री में छिपाकर जेल में बंद एक हत्यारोपी के पास भेजी गई थी। पिस्टल पहुंचाने वाला युवक दिल्ली का रहने वाला है और जेल में बंद पूरनपुर नवादा गांव के रहने वाले एक हत्यारोपी का भांजा है। सीबीआई कि जांच टीम ने इस पिस्टल को बरामद करने के लिए जेल के चप्पे-चप्पे को छाना था। गटरों की भी गहनता से तलाशी कराई थी। दूसरी पिस्टल का यह रहस्य सुलझा या नहीं ।यह तो सीबीआई के चार्ज शीट से ही पता चल सकेगा

संबंधित खबरें