DA Image
10 अप्रैल, 2021|5:32|IST

अगली स्टोरी

टपराना प्रकरण की हो न्यायिक जांच: जमीयत

default image

जमीअत उलेमा-ए हिन्द के पदाधिकारियों ने जिलाधिकारी से मुलाकात कर झिंझाना पुलिस पर गांव टपराना के निर्दोष व्यक्तियों पर अत्याचार करने का आरोप लगाया है। उन्होने पुलिस द्वारा ग्रामीणों के साथ की गई मारपीट की घटना की मजिस्ट्रेट जांच कराये जाने की मांग की है।बुधवार को जमीअत उलेमा-ए हिन्द के सदर मौलाना साजिद कासमी ने जिलाधिकारी जसजीत कौर को प्रार्थना पत्र देकर आरोप लगाया कि जिले में पुलिस द्वारा एक खास समुदाय को पूरी तरह से टारगेट करते हुए परेशान किया जा रहा है।

गत दो दिन पूर्व झिंझाना पुलिस गांव टपराना पहुंचती है और गोकशी के शक में ग्रामीणों के घर में घुसकर अत्याचार किया जाता है। कई युवाओं को पुलिस द्वारा उठाकर ले जाया गया था और फिर वसूली करके उनको छोड दिया गया। गत रात्रि भी पुलिस ने ग्राम प्रधान व अन्य समाजसेवियों को उठाकर प्रताडित किया जिससे ग्रामीण आक्रोशित हुए। लोगों को लगातार झूठे मुकदमे में फंसाने की धमकी दी जा रही है। जिस कारण पूरे गांव में झिंझाना पुलिस के प्रति रोष व्याप्त है। इसलिए माहौल को देखते हुए उक्त घटना की न्यायिक जांच कराई जानी जरूरी है ताकि लोगों को न्याय मिल सके। उनके साथ हाजी जहूर हसन भी मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Judicial inquiry should be done on the case of Tapparan Jamiat