DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  शाहजहांपुर  ›  चुनावी रंजिश के चलते ग्रामीण की हत्या, रास्ते में रोकर दबंगों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग 

शाहजहांपुरचुनावी रंजिश के चलते ग्रामीण की हत्या, रास्ते में रोकर दबंगों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग 

कांट-शाहजहांपुर। हिन्दुस्तान संवादPublished By: Dinesh Rathour
Wed, 12 May 2021 05:45 PM
चुनावी रंजिश के चलते ग्रामीण की हत्या, रास्ते में रोकर दबंगों ने की ताबड़तोड़ फायरिंग 

यूपी पंचायत चुनाव के नतीजे आने के बाद कई जिलों से विवाद की खबरें सामने आ रही हैं। यूपी के शाहजहांपुर जिले से भी चुनावी रंजिश के चलते एक युवक को मौत के घाट उतार दिया गया। कांट के प्रहलादपुर गांव में मंगलवार रात ग्रामीण की गोली मारकर हत्या कर दी गई। हत्या की सूचना पर पुलिस विभाग में हड़कंप मच गया। भारी संख्या में पुलिस बल पहुंच गया। पुलिस ने मृतक के भाई की ओर से नामजद रिपोर्ट दर्ज की। शव को सील कर पोस्टमार्टम भेजा।

सोनपाल की उम्र तकरीबन 60 साल थी। मंगलवार रात करीब साढ़े आठ बजे सोनपाल भतीजे के घर खाना खाकर वापस घर जा रहे थे। रास्ते में चार-पांच लोगों ने रंजिशन उन्हें घेर लिया। गाली-गलौज की। मारपीट शुरू कर दी। इसी दौरान ताबड़तोड़ फायरिंग की। फायरिंग में सोनपाल के दो गोली लगी। खून से लथपथ सोनपाल को देख हमलावर भाग गए। परिजन उन्हें बरेली ले गए। वहां निजी अस्पताल में डाक्टर ने सोनपाल को मृत घोषित कर दिया। सोनपाल की हत्या से उनके परिवार में कोहराम मच गया। भारी संख्या में पुलिस पहुंच गई। शव को सील कर पोस्टमार्टम के लिए भेजा। पुलिस का कहना है कि रामदीन ने थाने में तहरीर दी। बताया था कि भाई सोनपाल से गांव का नन्हे गाली-गलौज की। विरोध करने पर सिर में गोली मार दी। नन्हे के साथ अमर सिंह व एक अन्य व्यक्ति भी था। इस मामले में जानलेवा हमले की रिपोर्ट दर्ज कर ली गई थी। अब धारा को तरमीम किया जाएगा।

दावत में गई हुई थी मृतक की पत्नी और बेटा
सोनपाल की मंगलवार रात हत्या कर दी गई। उनकी पत्नी रामप्य्रामसागर के साथ हरदोई के बेहटा गोकुल अपनी रिश्तेदारी में एक दावत में गई हुईं थीं। उनका बेटा शिवकुमार खेत पर था। सोनपाल के शव को देख परिवार वालों का हाल बेहाल हो गया। परिजनों ने बताया कि मृतक का बेटा अलवर की मानसिक हालत ठीक नहीं है। मृतक की बेटी रेखा और उजाला की शादी हो चुकी है।

यह बताई जा रही रंजिश
सोनपाल की हत्या के मामले में चुनावी रंजिश बताई गई। पीएम हाउस पर परिजनों ने बताया कि सोनपाल प्रधानी के चुनाव में गांव के ही एक व्यक्ति की बहू का साथ दे रहे थे। दूसरी ओर विपक्षी अमरसिंह की पत्नी ने चुनाव लड़ी। दोनों ही लोग चुनाव हार गए थे। लेकिन दोनों ही आपस में चुनाव की रंजिश मानने लगे थे।

यह हो रही है चर्चा
मुख्य आरोपी नन्हे चार सगे भाई हैं। चौथा भाई सुरेश अलग रहता है। ममेरे भाई प्रताप का सुरेश के घर काफी आना जाना था। इस बात से नन्हे नाराज रहता था। मंगलवार रात नन्हे व सुरेश में झगड़ा हुआ। प्रताप के पक्ष में सोनपाल का भतीजा जोगेंद्र पहुंचा। मामला बढ़ा तो नन्हे ने फायर कर दिया, जो सोनपाल के लगा।

 

संबंधित खबरें