DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

लाश सड़क पर रख चक्का जाम की दी चेतावनी, तब दौड़े अफसर

लाश सड़क पर रख चक्का जाम की दी चेतावनी, तब दौड़े अफसर

सिंधौली में सुबह करंट लगने से संविदा कर्मचारी सुशील कुमार मिश्रा की मौत के बाद साथी कर्मचारियों ने कार्य बहिष्कार कर एसई ऑफिस पर जमकर हंगामा किया। कार्यदायी संस्था के एग्जीक्यूटिव से समस्या का हल न निकलने पर संविदा कर्मी भड़क गए। उन्होंने लाश को पोस्टमार्टम से लाकर सड़क पर रखकर चक्का जाम करने की चेतावनी दे डाली।

देर शाम एसई ने मौके पर पहुंचकर कर्मचारियों को समझा-बुझाकर शांत किया। पांच लाख रुपये का मुआवजा दिलाने की हामी भर दी। कर्मचारियों के बीमे को लेकर रास्ता न निकल सका था।संविदा कर्मचारी सुशील कुमार मिश्रा की मौत के बाद विद्युत संविदा मजदूर संगठन के पदाधिकारी भड़क गए। उन्होंने सभी उपकेंद्रों व लाइन मरम्मत की काम में लगे कर्मचारियों को एसई आफिस में बुला लिया।

दोपहर दो बजे सभी ने एसई दफ्तर को घेर लिया। जोरदार तरीके से प्रदर्शन करने के बाद कार्यदायी संस्था के एग्जीक्यूटिव नवीन कुमार का घेराव कर लिया। नवीन ने अपने उच्च अधिकारियों से वार्ता की, लेकिन समस्या का हल नहीं निकाल पाए। करीब साढ़े पांच बजे एसई अजीत कुमार श्रीवास्तव मौके पर पहुंचे।

कर्मचारियों ने उन्हें घेर लिया। पूछा कि अभी तक कर्मचारियों का बीमा नहीं कराया गया।एसई ने सभी को शांत किया। काफी देर तक मंथन चलता रहा। समिति के महामंत्री राजेश कुमार की मानें तो मरने वालों को पांच-पांच लाख रुपये का मुआवजा दो से चार दिन में दिया जाएगा। हालांकि, कर्मचारियों का बीमा कराने की बात पर सहमति नहीं बन पाई है। जोनल अध्यक्ष नवल किशोर सक्सेना, अध्यक्ष मोहम्मद रफी, कार्यकारी अध्यक्ष मुनीश पाल, महामंत्री राकेश कुमार, संरक्षक अशोक पाल आदि मौजूद रहे।

पहले चौहनापुर में गई थी संविदा कर्मी की जान

एक अप्रैल को कांट के चौहनापुर गांव में संविदा कर्मी धर्मेश कुमार की मौत हो गई थी। दूसरी घटना सिंधौली में होने से कर्मचारियों के सब्र का बांट टूट गया। -कार्यदायी संस्था के एग्जीक्यूटिव नवीन कुमार को संविदा कर्मियों ने घेर लिया। लगातार बढ़ते दवाब को देखते हुए नवीन ने 100 डायल को फोन कर दिया। जिसके बाद पुलिस मौके पर पहुंची। नवीन को अपने सुरक्षा घेरे में बाहर निकाला।

एक अप्रैल से दूसरी संस्था ने शुरू किया काम

पहले स्थानीय विद्युत संविदा मजदूर समिति के अंडर में कर्मचारियों को संविदा पर लगा रखा था। लेकिन, टेंडर नया होने के बाद दिल्ली की सिक्योरिटी एजेंसी ने बाजी मार ली। अब नई एजेंसी अपनी शर्तों पर कर्मचारियों को ड्यूटी पर रखना चाहती है। जिसका दो दिन पहले संविदा कर्मियों ने विरोध करते हुए एक्सईएन सिटी प्रशांत कुमार को पूरी बात बताई थी। हालांकि, अभी पूरी तरह से कर्मचारियों की ज्वाइन नहीं हो पाई है।

कर्मचारियों का आरोप-सादे कागज पर करा रहे साइन

एसई आफिस में आए कुछ कर्मचारियों ने कार्यदायी संस्था की बुकलेट दिखाकर आरोप लगाया कि संविदा कर्मियों को ज्वाइनिंग के नाम पर सादे कागज पर हस्ताक्षर कराए जा रहे हैं। हालांकि, कर्मचारी सादे कागज पर हस्ताक्षर करने को तैयार नहीं हैं।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The warning given to the dead body of the dead body kept on the road then the rushed officer