The need to adopt the constitution of Lord Buddha - भगवान बुद्ध की विधार धारा को अपनाने की जरूरत DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

भगवान बुद्ध की विधार धारा को अपनाने की जरूरत

भगवान बुद्ध की विधार धारा को अपनाने की जरूरत

धम्म चेतना जागरण मंच निगोही की ओर से बुद्ध जयंती के मौके पर कार्यक्रम का आयोजन किया गया। जिसमें भगवान बुद्ध की विचारधारा पर चलने का आह्वान किया। कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्य अतिथि अखिल भारतीय शाक्य मौर्य कुशवाहा सैनी महासभा के प्रदेश महासचिव हरिओम शाक्य, तिलहर विधायक रोशनलाल वर्मा, प्रदीप सिंह कुशवाहा, यशपाल सिंह कुशवाह ने भगवान बुद्ध की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर किया।

हरिओम शाक्य ने भगवान बुद्ध की विचारधारा पर सभी लोगों से चलने का आह्वान किया। विधायक ने कहा कि भगवान बुद्ध को देश ही नहीं, विदेशों में पूजा जाता है और भगवान बुद्ध की विचारधारा को अपनाना होगा और पाखंड से मुक्ति लेनी पड़ेगी। बुद्ध कथावाचक सुधीर कुमार शास्त्री ने भगवान बुद्ध की कथा का संगीत के माध्यम से लोगों में संचार किया। वरिष्ठ समाजसेवी प्रदीप सिंह कुशवाहा ने अहिंसा पर चलने के लिए सभी को प्रेरित करने का संदेश दिया।

व्यापारी नेता डा.रीतराम कुशवाहा ने समाज को एकता के सूत्र में बांधकर शिक्षित बनाने पर जोर दिया। इस अवसर पर ओमपाल मौर्य, राजपाल कुशवाहा, ओम चंद्र मौर्या, गंगा सिंह कुशवाहा, मुन्ना सिंह कुशवाहा, महेश चंद्र मौजूद रहे। अध्यक्षता रामशरण सिंह शाक्य और संचालन जय सिंह ने किया। आभार शिशुपाल मौर्य ने व्यक्त किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: The need to adopt the constitution of Lord Buddha