DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

श्रीबालाजी महाराज की प्राणप्रतिष्ठा, शोभायात्रा भी निकाली

श्रीबालाजी महाराज की प्राणप्रतिष्ठा, शोभायात्रा भी निकाली

1 / 3सिंधौली क्षेत्र के गांव अनावा में साधु बाबा स्थल पर नवनिर्मित मंदिर में गुरुवार को श्री बालाजी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई। पंडित अयोध्या प्रसाद द्वारा लगातार विधि विधान से 7 दिनों तक...

श्रीबालाजी महाराज की प्राणप्रतिष्ठा, शोभायात्रा भी निकाली

2 / 3सिंधौली क्षेत्र के गांव अनावा में साधु बाबा स्थल पर नवनिर्मित मंदिर में गुरुवार को श्री बालाजी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई। पंडित अयोध्या प्रसाद द्वारा लगातार विधि विधान से 7 दिनों तक...

श्रीबालाजी महाराज की प्राणप्रतिष्ठा, शोभायात्रा भी निकाली

3 / 3सिंधौली क्षेत्र के गांव अनावा में साधु बाबा स्थल पर नवनिर्मित मंदिर में गुरुवार को श्री बालाजी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई। पंडित अयोध्या प्रसाद द्वारा लगातार विधि विधान से 7 दिनों तक...

PreviousNext

सिंधौली क्षेत्र के गांव अनावा में साधु बाबा स्थल पर नवनिर्मित मंदिर में गुरुवार को श्री बालाजी महाराज की मूर्ति की प्राण प्रतिष्ठा की गई। पंडित अयोध्या प्रसाद द्वारा लगातार विधि विधान से 7 दिनों तक पूजन किया जा रहा था। गुरुवार सुबह श्री बालाजी महाराज की भव्य शोभायात्रा निकाली गई।

बड़ी संख्या में लोग श्री बालाजी महाराज की शोभायात्रा में शामिल हुए।शोभायात्रा में झांकियां आकर्षण का केंद्र रहीं। ढोल नगाड़ों व डीजे के साथ आरम्भ हुई यात्रा में लोगों ने डान्स भी किया। शोभायात्रा गांव के साधु बाबा स्थल से प्रारंभ हुई। शोभायात्रा महुआ पाठक, बड़ागांव, पुवायां से नगरिया होते हुए वापस साधू बाबा स्थल पर पहुंची। शोभायात्रा का गांव के लोगों ने जगह जगह पर स्वागत किया।

शोभायात्रा रास्ते के विभिन्न धार्मिक स्थलों पर रुकी। संयोजक गांव के प्रधान सतानंद शर्मा ने बताया कि श्री बालाजी महाराज की प्राण प्रतिष्ठा कराना, मेरे लिए बहुत ही सौभाग्य का काम है। शोभायात्रा में संजय शर्मा, रमेशचन्द्र शर्मा, सुधाकर शर्मा, नन्दू शर्मा, रामप्रताप, अंचल, रामाधार शर्मा, मोहित, अनुज, रामू, सुरेश,महेश, शिवकुमार, राजन सहित हजारों लोग मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:Shibbalaji Maharaj s Pranpritishtha Shobhayatra also taken out