DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

बिछने लगे शाहजहांपुर-पीलीभीत रेलवे ट्रैक के लिए रेल स्लीपर, नया पुल बनाने की तैयारी

बिछने लगे शाहजहांपुर-पीलीभीत रेलवे ट्रैक के लिए रेल स्लीपर, नया पुल बनाने की तैयारी

1 / 2पीलीभीत तक रेल का सफर सुहाना बनाने के लिए रेलवे ने ब्राडगेज लाइन को बिछाने का काम शुरू कर दिया है। शाहजहांपुर छोटी लाइन स्टेशन से शाहबाजनगर की ओर से काम ने तेजी पकड़ ली...

बिछने लगे शाहजहांपुर-पीलीभीत रेलवे ट्रैक के लिए रेल स्लीपर, नया पुल बनाने की तैयारी

2 / 2पीलीभीत तक रेल का सफर सुहाना बनाने के लिए रेलवे ने ब्राडगेज लाइन को बिछाने का काम शुरू कर दिया है। शाहजहांपुर छोटी लाइन स्टेशन से शाहबाजनगर की ओर से काम ने तेजी पकड़ ली...

PreviousNext

पीलीभीत तक रेल का सफर सुहाना बनाने के लिए रेलवे ने ब्राडगेज लाइन को बिछाने का काम शुरू कर दिया है। शाहजहांपुर छोटी लाइन स्टेशन से शाहबाजनगर की ओर से काम ने तेजी पकड़ ली है।

बड़े पैमाने पर रेल बिछाने का काम शुरू हो गया। लाइन के किनारे डाले जाने वाले कई ट्रक पत्थर भी पहुंच गए हैं। वहीं नया पुल बनाने का काम जेसीबी से खुदाई कर कराया जा रहा। काम की रफ्तार को देखते अंदाजा लगा सकते हैं कि एक साल में बीसलपुर तक डबल लाइन पर ट्रेन दौड़ने लगेगी।

लंबे समय से शाहजहांपुर से पीलीभीत तक पैसेंजर ट्रेनों का संचालन होता रहा है। यह पैसेंजर ट्रेनें बड़ी तादाद में गांवों के लोगों को शहर से जोड़ने का काम करती थीं। अप-डाउन करने वालों की संख्या भी काफी ज्यादा थी। लेकिन, मीटरगेज को ब्राडगेज करने के उद्देश्य से पैसेंजर ट्रेनों को संचालन 21 मई 2018 को बंद कर दिया गया था। ट्रेनों के बंद होने से इस रूट के तमाम लोगों के लिए सड़क मार्ग से यात्रा करना मुश्किल हो गया। लेकिन, रेलवे ने काफी तेजी दिखाई।

2017-18 में नई रेल लाइन को स्वीकृत किया। शाहजहांपुर से बीसलपुर तक 240 करोड़ की अनुमानित लागत वाले रेल खंड को स्वीकृत किया। जिसकी लंबाई 47.07 किमी है। सात मार्च को केंद्रीय मंत्री कृष्णाराज ने शिलान्यास किया। अब काम ने तेजी पकड़ ली है। स्टेशन पर कुछ हिस्से में स्लीपर बिछाकर पटरी डाल दी गई। मालगोदाम के आगे ढाका ताल तक स्लीपर डाले गए हैं। डबल लाइन को डालने के लिए पुरानी वाली लाइन की साइडों में पड़ी जमीन पर मिट्टी डालकर समतल कर दिया गया। इस काम को कराने में करीब आठ जेसीबी लगाई गई। रेलवे ने पूर्वोत्तर लाइन की सूरत को बदलकर नया कलेवर लाने का प्रयास किया है।

पुराना पुल बंद होगा, दूसरा बनेगा

पीलीभीत दिशा की ओर पहले रेलवे पुल को बंद कर दिया जाएगा। नाले के ऊपर बने पुल को जेसीबी के जरिए मिट्टी डालकर पाट दिया गया। जर्जर हो चुके उस पुल के स्थान पर नया बनाया जाएगा। उसके लिए जेसीबी से खुदाई शुरू करा दी गई। जिससे नाले के पानी को पास कराया जा सके।

बीसलपुर से शाहजहांपुर स्टेशन की फैक्ट फाइल

11 स्टेशन इस रूट पर पड़ते हैं।

04 क्रासिंग

07 हाल्ट

03 मानवरहित रेलवे क्रासिंग

03 इंटरलॉक क्रासिंग

03 लंबे पुल भी हैं।

13 छोटे पुल पड़ते हैं।

04 पैदल यात्री पुल

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Rail sleeper for Shahjahanpur-Pilibhit railway track ready to construct new bridge