DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पिता के गम में फेरे लेते समय पूनम के लड़खड़ाए पैर

पिता के गम में फेरे लेते समय पूनम के लड़खड़ाए पैर

शादी से दो दिन पहले अचानक पिता की मौत के सदमे से बेटी दुल्हन बनी पूनम के फेरे लेते समय पैर लड़खड़ा रहे थे। पिता की मौत का सदमा पूनम के चेहरे पर साफ नजर आ रहा था। रविवार को भूसे के कूप में जलकर हुई मौत से किसान महेश सिंह की बेटी पूनम की शादी रस्मों तक ही सीमित रही।

धूमधाम से होने वाली शादी में सिर्फ दूल्हा व उनके परिवार के लोग ही आए, जिस घर में दो दिन पहले बेटी की शादी की तैयारी पूरे जोश के साथ हो रही थी। खुशी से सभी कार्यक्रम किए जा रहे थे। कुछ खास मेहमान भी घर आ चुके थे। अचानक हुई मौत की घटना से शादी की खुशियों में ग्रहण लग गया।

बेटी पूनम रोते हुए सात फेरे लिए। फेरे लेते समय कई बार पैर लड़खड़ाए। परिवार की महिलाओं ने पूनम को किसी तरह संभाला। हर किसी के बड़े भाई अवधेश सिंह ने पिता के दायित्व को निभा किया। जलालाबाद के चौकी साहबगंज बझेरा गांव के दूल्हा बनकर आए रामप्रताप सिंह अपने होने वाले ससुर के साथ खुशी साझा नहीं सके। महेश की रविवार को भूसे में दबकर मौत हो गई। गमगीन माहौल में अटेना गंगा घाट पर अंतिम संस्कार किया गया। मध्यम वर्ग के किसान महेश का गांव में अच्छा व्यवहार था।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Poonam s faltering legs while taking round