DA Image
हिंदी न्यूज़ › उत्तर प्रदेश › शाहजहांपुर › रोड पर पैचिंग के लिए लगाया प्लांट, पर गड्ढे नहीं भर पाया एनएचएआई
शाहजहांपुर

रोड पर पैचिंग के लिए लगाया प्लांट, पर गड्ढे नहीं भर पाया एनएचएआई

हिन्दुस्तान टीम,शाहजहांपुरPublished By: Newswrap
Sat, 26 Jun 2021 11:10 PM
रोड पर पैचिंग के लिए लगाया प्लांट, पर गड्ढे नहीं भर पाया एनएचएआई

सिंधौली। संवाददाता

दिल्ली-पलिया स्टेट हाईवे पर स्थित गडढे जानलेवा होते जा रहे हैं। सिंधौली में लाल पंप स्थित गडढे की वजह से शनिवार सुबह एक बुजुर्ग की मौत हो गई है। न जाने कितने लोग इन गडढों की वजह से अपाहिज हो चुके हैं। अगर इन गडढों को भरा नहीं गया तो किसी भी दिन कोई बड़ा हादसा हो सकता है। ऐसे में दिल्ली-पलिया स्टेट हाईवे से गुजरने वाले जरा संभलकर चलें। जानलेवा गडढों की वजह से कहीं बड़ा हादसा न हो जाए।

दिन में बच जाते, लेकिन रात को नहीं

शाहजहांपुर से पुवायां रोड को जाते ही अशफाक नगर चौकी के पास एक बड़ा गडढा था, जिसे कुछ दिन पूर्व भर दिया गया, लेकिन चिनौर गांव के आगे बढ़ते ही रोड पर कई जगहों पर गडढे दिखाई देंगे। दिन में तो लोग इन गडढों से बचकर निकल जाते हैं, लेकिन रात को यह गडढे जानलेवा साबित हो सकते हैं। इन गडढों के कारण कई बार वाहन अनियंत्रित होकर सड़क किनारे खड़े पेड़ से टकरा चुके हैं।

मंत्री को गुजरना होता है, तब ध्यान जाता है गडढों पर

दिल्ली-पलिया स्टेट हाईवे पर दिनभर हजारों वाहनों का गुजरना होता है। इस सड़क से आमजन ही नहीं, बल्कि जनप्रतिनिधि व प्रशासनिक अधिकारियों का भी गुजरना होता है, लेकिन किसी का भी ध्यान इन गडढों की ओर नहीं जाता। अगर इन गडढों की ओर ध्यान न दिया गया तो किसी भी दिन बड़ा हादसा हो सकता है। अभी चार दिन पहले कैबिनेट मंत्री सुरेश खन्ना को इस रोड से गुजरना था तो उसी गडढे में ईंट भर दी गई थीं, जिस गडढे की वजह से शनिवार को बुजुर्ग की मौत हो गई। मंत्री का काफिला गुजरने के बाद ईंट भी चूर चूर हो गईं थी।

दो साल से दो विभागों के बीच झूल रही सड़क

पहले तो शाहजहांपुर-पुवायां रोड के मेंटीनेंस का जिम्मा पीडब्ल्यूडी के पास रहता था। पर दो साल पहले इस रोड को दिल्ली-पलिया हाईवे घोषित के होने के कारण एनएचएआई को दे दिया। दो ही तीन महीने के बाद एनएचएआई ने यह रोड वापस पीडब्ल्यूडी को दे दी। उसके कुछ माह के बाद दुबारा यह रोड एनएचएआई के पास आ गई। फिर काफी दिनों के बाद एनएचएआई ने इस रोड के मेंटीनेंस के बारे में सोचा। चिनौर के आगे प्लांट भी लगाया। कुछ एक गडढे भरे, लेकिन बाद में काम बंद कर दिया। कई प्रोजेक्ट मैनेजर भी बदल गए। इस वक्त कौन काम देख रहा है, यह पता नहीं लग सका।

गडढे के कारण हुई मौत से ग्रामीण नाराज

सिंधौली में लाल पंप पास शनिवार सुबह हुए हादसे में मरे बुजुर्ग को लेकर ग्रामीणों में नाराजगी है। उन्होंने गडढों को भरवाने की मांग की है। उनका कहना है कि कई बार इसकी सूचना दी गई, लेकिन कुछ नहीं हुआ। वहीं, मरने वाले नरेंद्र सिंह के परिवार ने अपील की। कहा: किसी और के साथ ऐसा न हो। गडढों को भरवाया जाए।

बरसात के दिनों में होती ज्यादा दिक्कत

शहर क्रास करने के बाद चिनौर गांव से निकलते ही गडढे दिखाई देने लगते हैं। नियामतपुर गांव, लक्ष्य इंस्टीट्यूट, मुर्छा मोड़, रधौली गांव, पुल से पहले और कस्बे में, पेट्रोल पंप पास, रजऊ, महानंदपुर, महुआ पाठक आदि जगहों पर कई गडढे हैं, जिनकी वजह से दिक्कत बनी रहती। सबसे ज्यादा दिक्कत बरसात के दिनों में होती है।

संबंधित खबरें