DA Image
7 जुलाई, 2020|10:33|IST

अगली स्टोरी

अनलाक होने पर सुबह होते ही खोल दी व्यापारियों ने दुकानें

अनलाक होने पर सुबह होते ही खोल दी व्यापारियों ने दुकानें

1 / 4मार्केट की नई टाइम टेबिल को लेकर व्यापारी एक-दूसरे को फोन करते रहे।

अनलाक होने पर सुबह होते ही खोल दी व्यापारियों ने दुकानें

2 / 4मार्केट की नई टाइम टेबिल को लेकर व्यापारी एक-दूसरे को फोन करते रहे।

अनलाक होने पर सुबह होते ही खोल दी व्यापारियों ने दुकानें

3 / 4मार्केट की नई टाइम टेबिल को लेकर व्यापारी एक-दूसरे को फोन करते रहे।

अनलाक होने पर सुबह होते ही खोल दी व्यापारियों ने दुकानें

4 / 4मार्केट की नई टाइम टेबिल को लेकर व्यापारी एक-दूसरे को फोन करते रहे।

PreviousNext

एक जून से अनलाक होने पर रविवार देर रात तक जिला प्रशासन की गाइड लाइन जारी न हो सकी। मार्केट की नई टाइम टेबिल को लेकर व्यापारी एक-दूसरे को फोन करते रहे। पूरी रात उनकी बेचैनी और पसोपेश में कटी। सोमवार सुबह होते ही दुकानें खोल दी गई। विभिन्न बाजारों में सुबह आठ बजे ही डाउन शटर उठ गए। दुकानदार ग्राहकों का इंतजार करने लगे। कुछ दुकानों पर ग्राहक नजर भी आए तो कई दुकानें खाली थी। दिन में दस बजने के बाद लोगों की भीड़ बढ़ने लगी। सोशल डिस्टेसिंग का अता-पता नहीं था। लोगों ने अपनी जरूरत की चीजों की खरीदारी की। आम दिनों की अपेक्षा ज्यादा ही चहल-पहल नजर आई।

समय से पहले खुली दुकानें

हर रोज नौ बजने पर ही मशीनरी मार्केट की दुकानें खुलती थी। सोमवार को दुकानदार ज्यादा ही उत्साहित नजर आए। सुबह आठ बजे ही मशीनरी मार्केट में दुकानें खुलना शुरू हो गई। व्यापारी दुकानों के बाहर अपना सामान सजाने में लगे थे। कुछ दुकानों पर ग्राहक भी नजर आए। उन्होंने कृषि यंत्रों से संबंधित सामान की खरीदारी की गई। कई दुकानों पर सुनसान पड़ा था। हालांकि, यह दुकानें खुल जरूर ही जल्दी गई हो, पर बंद अपने निर्धारित समय पर की गई।

दूध वाले जा नहीं पाए, दुकानों के शटर उठ गए

-सदर बाजार में दूध बेचने वाले दूधियों की भीड़ लगती है। साढ़े आठ बजे तक यह दूध बेचकर निकल जाते हैं। सोमवार को दूधिए अपने घर की ओर रवाना नहीं हो पाए और मार्केट खुलना शुरू हो गई। जिस दुकानदार ने शटर उठाया। उसने दुधियों को दुकान के सामने से हटाना शुरू कर दिया। नौ बजे से पहले ही प्रथम स्लाट की दुकानें खुल गई। आमतौर पर इतनी जल्दी दुकानों के शटर नहीं उठते थे।

-दुकानों पर उमड़ी महिलाओं की भीड़

-अनलॉक होने के पहले चरण में दुकानों पर भीड़ उमड़ पड़ी। सड़कों पर जितनी चहल-पहल थी। उतनी ही दुकानों पर लोग नजर आ रहे थे। बहादुरगंज में फड़ पर लगने वाली दुकानों पर काफी लोग नजर आए। कैपरी, नेकर, बनियान और टी-शर्ट आदि की खूब खरीदारी हुई। युवतियों ने अपने लिए सूट की खरीदारी भी की। भीड़ के चलते सामाजिक दूरी का पालन भी रत्ती भर नहीं किया गया।-

-मोबाइल की दुकान भीड़ रही खूब

कटिया टोला स्थित रोड पर अली बाबा टेलीकॉम पर मोबाइल खरीदने वालों की खूब भीड़ रही। लोगों ने अपनी मोबाइल पसंद किए। शोरूम पर आम दिनों की अपेक्षा ज्यादा भीड़ रही। प्रोपराटर यासीन मलिक ने बताया कि लाकडाउन में बिजनेस पूरी तरह से चौपट हो गया। मोबाइल की सप्लाई न मिलने से काफी संकट खड़ा हो गया है। पुराना माल ही बेचा जा रहा है। कंपनियों ने माल की सप्लाई के लिए शर्तों को लागू कर दिया है।

कलक्ट्रेट गेट भी खुल गया

लाकडाउन के चलते कलक्ट्रेट का मुख्य गेट बंद कर दिया गया था। लोगों को सैनिक बोर्ड की तरफ से आने के निर्देश थे। सोमवार को मेन गेट खोल दिया। इस बीच काफी भीड़ भी उमड़ी। यहां पर लगे एटीएम में रुपये निकालने के लिए लोगों की काफी भीड़ रही। वहीं कचहरी में प्रवेश न मिलने के चलते तमाम वादकारी पेड़ के नीचे आराम करते हुए नजर आए।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Merchants opened shops at dawn on arrival