DA Image
27 अक्तूबर, 2020|11:26|IST

अगली स्टोरी

दोस्त की पत्नी का अश्लील वीडियो बनाया, मुकदमा दर्ज

दोस्त की पत्नी का अश्लील वीडियो बनाया, मुकदमा दर्ज

जिस दोस्त पर भरोसा किया, वह ही धोखा दे गया। युवक की पत्नी का अश्लील वीडियो बनाकर वायरल करने की दो युवकों ने धमकी दी। एक युवक दूसरे समुदाय का होने के चलते मामला गर्मा गया। हिन्दू संगठनों के विरोध के बाद सपा जिलाध्यक्ष समेत चार लोगों पर मुकदमा दर्ज किया गया। पूरे मामले की जांच सीओ सिटी को सौंपी गई।

चौक कोतवाली क्षेत्र की एक कालोनी निवासी युवक ने थाने पर पर तहरीर दी। उसने बताया कि लाला तेजी बजरिया निवासी दुर्गेश सक्सेना, उसका दोस्त बाडूजई प्रथम निवासी कफील अहमद का उसके घर पर आना-जाना था। युवक का आरोप है कि कफील अहमद ने उसी की बहन के साथ मिलकर पत्नी का अश्लील वीडियो बना लिया। कफील और दुर्गेश ने डरा-धमकाकर पत्नी का शारीरिक शोषण किया। दो सितम्बर को कफील, दुर्गेश और उसकी बहन ने शारीरिक शोषण किया, साथ ही जेवर छीन लिए। अलमारी में रखे 7300 रुपये निकालकर धमकाया कि किसी को पूरी बात बताई तो वीडियो वायरल कर देंगे।

युवक ने पुलिस को बताया कि वह सपा का कार्यकर्ता था, इसलिए सपा जिलाध्यक्ष तनवीर खां से बात की। तनवीर ने उसे और उसकी पत्नी को अपने घर बुलाया। आरोप है कि जिलाध्यक्ष ने कहा कि दंपत्ति हिन्दू धर्म छोड़कर मुस्लिम धर्म अपना लें तो वह वीडियो वायरल नहीं होने देंगे।

तहरीर पर पुलिस ने युवक की बहन दुर्गेश सक्सेना, कफील अहमद और सपा अध्यक्ष तनवीर खां पर एससीएसटी एक्ट समेत कई धाराओं में मुकदमा दर्ज कर लिया। इससे पहले बुधवार दोपहर हिन्दू संगठनों ने राजेश अवस्थी के नेतृत्व में कोतवाली पर प्रदर्शन किया। 24 घंटे पूरे होने के बाद भी मुकदमा दर्ज न होने पर नाराजगी जताई थी।

यह है मामला

-बुधवार को विभिन्न हिन्दू संगठनों ने एसपी आफिस का घेराव कर कफील अहमद पर युवक की बहन को भगाकर ले जाने और सपा जिलाध्यक्ष पर घर पर बुलाकर मामले को मैनेज कराने का आरोप लगाया था। शाम को युवक की बहन ने कुछ मीडिया कर्मियों के सामने आकर कफील को अपना पति बताया। उसने तनवीर खां का प्रकरण से कोई ताल्लुक न होने की बात कही। यह भी बताया कि मामला तीन लाख रुपये के लेन-देन का है। जिसके चलते उसका भाई कफील को मुकदमे में फंसा रहा है।

सपा जिलाध्यक्ष तनवीर खां ने बताया कि इस प्रकरण से मेरा कोई लेना-देना नहीं है। हमने किसी को नहीं धमकाया है। पहली बात पुलिस को बिना जांच किए मुकदमा दर्ज नहीं करना चाहिए। पुलिस ऐसे मुकदमा लिखेगी तो संभ्रांत व्यक्ति राजनीति कैसे कर पाएंगे। यह एफआईआर पूरी तरह से राजनीतिक छवि को धूमिल करने की साजिश है। मेरी जनता के बीच एक्टिविटी को देखकर सत्ता पक्ष के लोगों में घबराहट पैदा हो गई।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Made pornographic video of friend 39 s wife lawsuit filed