DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

कमल ने कर दिया कमाल, पहले से ज्यादा हुआ शक्तिमान

कमल ने कर दिया कमाल, पहले से ज्यादा हुआ शक्तिमान

दस साल पहले की बात है, जब लोकसभा चुनाव में भाजपा की कृष्णाराज को तीसरा स्थान पर रहकर संतोष करना पड़ा था। उस हार के बाद पार्टी के नेताओं ने सबक लिया। मेहनत और संघर्ष के साथ ही अपनी पार्टी को आगे ले जाने के लिए प्रयास शुरू किए। उसका असर पिछले चुनाव में देखने को मिला।

भाजपा ने 46.78 प्रतिशत वोट के साथ बाजी मारी थी। वहीं इस बार फिर से पार्टी के वोटरों की संख्या में इजाफा हुआ है। जिले में कमल अपना कमाल लगातार कर रहा है। पहले से ज्यादा पार्टी शक्तिमान हो गई।बात की शुरुआत 2009 से करते हैं। भाजपा की ज्यादा ताकत नहीं थी। जनप्रतिनिधि के रूप में अकेले सदर सीट से सुरेश खन्ना ही प्रतिनिधित्व करते थे। उस समय लोकसभा चुनाव में भाजपा ने कृष्णाराज को टिकट देकर मैदान में उतारा था। उनके सामने सपा से मिथलेश कुमार,बसपा से सुनीता सिंह और कांग्रेस से उम्मेद सिंह कश्यप मैदान में ताल ठोंक रहे थे। उस चुनाव में भाजपा पर जनता ने विश्वास नहीं किया।

मिथलेश कुमार ने दो लाख 57 हजार 33 मत पाकर लोकसभा जाने का रास्ता साफ किया था। दूसरे नंबर पर एक लाख 86 हजार 454 मत पाकर बसपा से सुनीता सिंह रही थी। जबकि, सबसे ज्यादा खराब हालत भाजपा की हुई थी। कृष्णाराज को करीब एक लाख 25 हजार वोट हासिल हो सके थे। इस हार के बाद भाजपा ने जमीनी स्तर पर काम शुरू किया। वोटरों को अपने पक्ष में करने के साथ-साथ ही संगठन को बूथ लेबल तक पहुंचाया। जिसका नतीजा 2014 में सामने आया।

मोदी मैजिक के बीच जनता ने भाजपा को जनादेश दिया और कृष्णाराज को सांसद की कुर्सी सौंप दी। उस समय भाजपा के वोट में जबर्दस्त उछाल आया था। सवा लाख वोट पाने वाली कृष्णा ने दूसरे चुनाव में सवा पांच लाख का आंकड़ा छू लिया। कुल 46.67 प्रतिशत वोट भाजपा के पाले में आए थे। इस आम चुनाव में भी भाजपा ने अपने प्रदर्शन को खराब नहीं किया, बल्कि पहले से ज्यादा सुधार किया। भाजपा के अरूण सागर ने नया अध्याय जोड़ते हुए मतों के प्रतिशत का अद्र्धशतक लगाते हुए 58 प्रतिशत मत हासिल किए हैं। यानी पिछले चुनाव में सवा पांच लाख वोट पाने वाली भाजपा ने इस बार दो लाख वोट अधिक पाए हैं।

2014 के चुनाव पर नजर

भाजपा की कृष्णाराज को पांच लाख 25 हजार 132 वोट मिले थे।-दूसरे नंबर पर बसपा के उम्मेद सिंह दो लाख 89 हजार 603 वोट हासिल हुए थे।-सपा के मिथलेश कुमार दो लाख 43 हजार 913 वोट पाकर तीसरे नंबर पर रहे थे। -कांग्रेस के सिम्बल से लड़े चेतराम को लगभग 27 हजार वोट ही पा सके थे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Kamal did amazing more powerful than before