ट्रेंडिंग न्यूज़

अगली खबर पढ़ने के लिए यहाँ टैप करें

हिंदी न्यूज़ उत्तर प्रदेश शाहजहांपुरहैलो चाइल्डलाइन : पापा खिलौने लाकर नहीं दे रहे, इन पर कार्रवाई करें

हैलो चाइल्डलाइन : पापा खिलौने लाकर नहीं दे रहे, इन पर कार्रवाई करें

बच्चों की सेवा के लिए तत्पर हेल्पलाइन सेवा 1098 पर बच्चे अजब-गजब मामले आ रहे...

हैलो चाइल्डलाइन : पापा खिलौने लाकर नहीं दे रहे, इन पर कार्रवाई करें
Newswrapहिन्दुस्तान टीम,शाहजहांपुरThu, 25 Nov 2021 11:40 PM
ऐप पर पढ़ें

बच्चों की सेवा के लिए तत्पर हेल्पलाइन सेवा 1098 पर बच्चे अजब-गजब मामले आ रहे हैं। वह घर की छोटी-छोटी बातों से नाराज होकर चाइल्ड लाइन से मदद मांगने को नंबर मांगने से पीछे नहीं हट रहे। हालांकि, ऐसे केस में टीम शिकायती के घर तक पहुंचकर बच्चे और अभिभावकों की काउंर्संलग कर समस्या का हल निकालती है। कोरोना काल में ऐसे तमाम केस सामने आए हैं, जिसे सुनकर चाइल्ड लाइन की टीम भी आश्चर्यचकित रह गईं।

हेल्पलाइन सेवा 1098 का बड़े पैमाने पर प्रचार-प्रसार किया गया। स्कूल से लेकर रेलवे स्टेशन, रोडवेज समेत कई सार्वजनिक स्थानों पर चाइल्ड लाइन के कार्यों और नंबरों के पोस्टर चस्पा किए गए। स्कूलों में बच्चे भी नंबर को अपनी डायरी पर लिखकर सुरक्षित कर लेते हैं,लेकिन यहीं नंबर टीम के लिए मुसीबत बन रहे हैं। चाइल्ड लाइन के नंबर पर अजब-गजब केस सामने आते हैं। बच्चे घर की छोटी से बात पर 1098 पर कॉल कर मदद मांगते हैं। मम्मी और पापा पर कार्रवाई तक करने की गुहार लगा देते हैं।

केस 1-

=कोविड-19 के समय बच्चों की घर में आपस में लड़ाई हो गई थी। तब भाई से विवाद की खबर चाइल्ड लाइन की टीम को दी। कहा कि भाई ने मारपीट की। उसके खिलाफ कार्रवाई चाहते हैं।

केस टू

चाइल्ड लाइन के पास एक बार फोन आया। बालक ने बताया कि पापा ने भाई को किताबें और खिलौने लाकर दे दी। उसके कहने के बाद भी नहीं सुन रहे। पापा पर कार्रवाई की जाए।

चाइल्ड लाइन के प्रभारी विनय शर्मा ने बताया कि यह आपाताकालीन सेवा है। किसी बच्चे की कोई सूचना आती हैं तो उस केस पर काम जरूर होता है। बच्चों की शैतानी करने पर भाईयों में विवाद होने के केस में भी टीम घर गई थी। अभिभावक और बच्चों को समझाया था।

epaper