Gautam Rishi had to do Rudrabhishek to get rid of the sin of cow slaughter - गोहत्या के पाप से मुक्ति को गौतम ऋषि को करना पड़ा रुद्राभिषेक DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

गोहत्या के पाप से मुक्ति को गौतम ऋषि को करना पड़ा रुद्राभिषेक

गोहत्या के पाप से मुक्ति को गौतम ऋषि को करना पड़ा रुद्राभिषेक

1 / 2शिवमहापुराण कथा व रुद्राभिषेक के चौथे दिन वाचक प्रशांत प्रभु ने भगवान शिव के अवतारों का मार्मिक प्रस्तुतिकरण किया। इस दौरान कथा सुनने पहुंचे भक्त भावविभोर हो...

गोहत्या के पाप से मुक्ति को गौतम ऋषि को करना पड़ा रुद्राभिषेक

2 / 2शिवमहापुराण कथा व रुद्राभिषेक के चौथे दिन वाचक प्रशांत प्रभु ने भगवान शिव के अवतारों का मार्मिक प्रस्तुतिकरण किया। इस दौरान कथा सुनने पहुंचे भक्त भावविभोर हो...

PreviousNext

शिवमहापुराण कथा व रुद्राभिषेक के चौथे दिन वाचक प्रशांत प्रभु ने भगवान शिव के अवतारों का मार्मिक प्रस्तुतिकरण किया। इस दौरान कथा सुनने पहुंचे भक्त भावविभोर हो गए।

चौथे दिन की कथा का शुभारंभ व्यास पीठ का पूजन कर किया गया। कथा वाचक डा. प्रशांत प्रभु ने कहा कि गौतम ऋषि ने शिव गैत्री सिद्ध करके संसार को गौतमी नदी प्रदान की, उनके यश और कीर्ति को देख करके कुछ मायावी मुनियों ने उनके यज्ञ कुंड पर षड़यंत्र करके एक दुर्बल गाय बांध दी।

मंत्रोच्चारण के समय ही गाय मर गई, जिसका दोष गौतम ऋषि पर लगा दिया गया। उन्हें एक करोड़ पार्थिक शिवलिंगों का निर्माण कर रुद्राभिषेक करने पर भगवान शिव के दर्शन होने पर गोहत्या के पाप से मुक्ति मिलने का मार्ग बताया। जिसका पालन करने पर भगवान प्रसन्न हुए और कहा कि जिन ब्राह्मणों ने षडयंत्र किया वह वंश सहित महाभारत युद्ध के बाद शुरू होने वाले कलिकाल में तीनों संध्याओं से वंचित ब्राह्मण कुल में जन्म लेंगे। चौथे दिन की कथा के समापन पर आरती हुई, जिसमें सभी श्रद्धालुओं ने हिस्सा लिया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Gautam Rishi had to do Rudrabhishek to get rid of the sin of cow slaughter