fake gas connection given to the citizens - उज्जवला योजना के 2500 गैस कनेक्शन निकले फर्जी DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

उज्जवला योजना के 2500 गैस कनेक्शन निकले फर्जी

शहरी व ग्रामीण इलाकों में चूल्हे पर लकड़ी जलाकर खाना बनाने वालों के लिए शुरू की गई प्रधानमंत्री उज्जवला योजना में फर्जीवाड़ा सामने आया है। मंत्रालय से आई लिस्ट को देखकर डिस्ट्रीब्यूटरों ने एक परिवार के चार-चार लोगों को कनेक्शन बांट दिए। जबकि, परिवार की मुखिया महिला को सिलेंडर मिलना था। अब कंपनियों ने साफ्टवेयर में अपना डाटा अपडेट किया तो कलई खुल गई। अब ग्राहकों से सिलेंडर को सरेंडर कराने का काम शुरू करा दिया गया।चूल्हे पर खाना बनाने वाली महिलाओं की दिक्कतों को देखते हुए पीएम ने उज्जवला योजना को शुरू किया था। इसके तहत वर्ष 2011 में हुई जनगणना की लिस्ट को पेट्रोलियम मंत्रालय ने उज्जवला योजना के कनेक्शन देने के लिए डिस्ट्रीब्यूटरों को दिया था। यूनिक आईडी के तहत प्रत्येक परिवार के मुखिया को सिलेंडर देना था। लेकिन, मंत्रालय के प्रेशर को देखते हुए रेवड़ियों की तरह कनेक्शन बांट दिए गए। डिस्ट्रीब्यूटरों ने फार्म भरवाएं और कंपनियों ने आवेदनों पर यूनिक आईडी भी चेक नहीं की। नतीजन, एक परिवार में चार-चार कनेक्शन पहुंच गए। अब थोड़ी राहत होने पर गैस एजेंसी कंपनियों ने साफ्टवेयर अपडेट किया तो बड़ी गड़बड़ी सामने आई। कंपनी ने अपनी गलती को छिपाने के लिए डिस्ट्रीब्यूटरों के पाले में गेंद सरका दी। साफ कहा कि यह फर्जी कनेक्शन सरेंडर कराए जाएं। ग्राहकों से गैस सिलेंडर के साथ चूल्हा भी वापस लिया जाए। ऐसा नहीं करने पर डिस्ट्रीब्यूटर से 3200 रुपये काटे जाएंगे। इस कार्रवाई से डिस्ट्रीब्यूटरों में हड़कंप मचा है। बताया जाता है कि जिले में करीब 2500 कनेक्शन ऐसे पाए गए हैं, जो गलत तरीके से जारी कर दिए गए हैं।जनगणना के आधार पर दिया था लाभ=साल 2011 में ग्रामीण क्षेत्रों में जनगणना कराई गई थी। गांवों में फार्म भरवाए गए। जनगणना में लापरवाही कर दी गई। फार्म पर गैस कनेक्शन नहीं पर निशान लगा दिया गया। हाल यह था कि अमीरों को गरीब बना दिया। उसी के तहत कनेक्शन भी बांट दिए गए।गैस भरवाने आने वालों के रखवा रहे सिलेंडर=फर्जीवाड़ा सामने आने के बाद डिस्ट्रीब्यूटरों में हड़कंप मचा है। उनका सारा जोर गैस सिलेंडर सरेंडर कराने पर लगा है। एजेंसी पर गैस भरवाने आने वालों से सिलेंडर रखवा लिया जा रहा है। चूल्हा, रेग्युलेटर लेने के लिए ग्राहकों के घर तक जाना पड़ेगा। सिलेंडर रखवाने की शिकायत सेहरामऊ दक्षिणी के ग्राहकों ने डीएम से शिकायत की है। गांव की ज्योति, अनीता, मामा, शरद, विनोद ने पत्र में बताया कि उज्जवला योजना का कनेक्शन लिया था। 30 मई को गैस भरवाने गए तो सिलेंडर रखवा लिया गया। पीड़ित ने सिलेंडर दिलवाए जाने की मांग की है। डिस्ट्रीब्यूटर जारी कर रहे नोटिस फर्जी तरीके से कनेक्शन लेने वालों को डिस्ट्रीब्यूटर भी नोटिस जारी कर रहे हैं। ग्राहकों को बता रहे कि गलत तरीके से कनेक्शन जारी कर दिया गया। सूत्र बताते हैं कि सिर्फ कुछ एजेंसियों से ही यह चूक हुई है। ऐसे एजेंसी वाले अब संबंधित कंपनी से बात करने का प्रयास कर रहे हैं, जिससे उज्जवला योजना को नार्मल कनेक्शन में बदला जा सके।फैक्ट फाइल53 गैस एजेंसी जिले में संचालित01 लाख कनेक्शन बांटे गए थे2500 गैस कनेक्शन पाए गए फर्जी

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:fake gas connection given to the citizens