DA Image
25 फरवरी, 2021|4:11|IST

अगली स्टोरी

डिजिटल तरीके से बच्चों को करें शिक्षित : सुरेन्द्र सिंह

डिजिटल तरीके से बच्चों को करें शिक्षित : सुरेन्द्र सिंह

कोरोना काल में जीवन शैली के साथ शिक्षण कार्यक्रम में काफी बदलाव हुए हैं। उन्हीं में से प्रमुख बेसिक शिक्षा का डिजिटलीकरण है। ग्रामीण क्षेत्र में तमाम दुःश्वारियों के बीच डिजिटल शिक्षा को व्यापक रूप से शिक्षण मे शामिल करने के प्रयास जारी है। मिर्जापुर के गुटेटी उत्तर में शिक्षकों डिजिटल एप द्वारा बच्चों को शिक्षित करने पर जोर दिया गया।

मिर्जापुर के गुटेटी उत्तर प्राथमिक विद्यालय में आयोजित शिक्षक व अभिभावक कार्यक्रम के दौरान एआरपी संदीप सिंह ने बताया कि बेसिक शिक्षा विभाग ने प्राइमरी और मिडिल स्कूलों में विज्ञान, गणित और अंग्रेजी की पढ़ाई को डिजिटलीकरण बहुत ही आसान बना दिया है। बच्चों को समझाने की समस्या का निराकरण भी डिजिटल एप दीक्षा ने आसान कर दिया है। दीक्षा एप पर कक्षा एक से आठ तक सभी विषयों के पाठ्यक्रम को समाहित किया गया है। किस कक्षा के किस पाठ को पढ़ाना है, उसे क्लिक करते ही प्रारंभ हो जाएगा। गणित को समझाने के लिए सूत्र का भी प्रयोग किया गया है, जिससे आसानी से बच्चों के समझ में आ जाएगा।

एनड्राइड मोबाइल पर आवाज के साथ ही साफ चित्र भी दिखेगा। मगर चित्र में कोई चेहरा नहीं होगा, बल्कि गणित लगाने का तरीका और अंग्रेजी के ग्रामर को स्पष्ट तरह से प्रकट किया गया है। उन्होंने बताया कि कोरोना काल के दौरान इस सफलता पूर्वक क्षेत्र के सभी स्कूलों में लागू किया गया है। उन्होंने बताया कि जो शिक्षक डिजिटल एप के द्वारा बच्चों को शिक्षित नहीं कर पा रहे हैं, उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। एआरपी प्रदीप कुशवाहा ने बताया कि जो डिजिटल एप के सहारे जहां पढ़ाई आसान हुई है, वहीं शिक्षकों का बोझ भी हल्का हो गया है। शिक्षाविद शमशाद हुसैन ने अभिभावकों से भी शिक्षा के डिजिटलीकरण में सहयोग कर लाभ उठाने के लिए प्रेरित किया। कार्यक्रम के आयोजक शिक्षक मुख्तयार हुसैन ने डिजिटल एप के साथ विद्यालय में शिक्षा का माहौल बनाने के लिए करने वाले बदलावों की जानकारी दी। इस दौरान गाइड कैप्टन रत्ना शर्मा, एसएमसी अध्यक्ष लालाराम, शैलेन्द्र सक्सेना, रामकिशोर गुप्ता, ज्ञान सिंह , पवन गुप्ता, सचिन शाक्य आदि मौजूद रहे।

  • Hindi News से जुड़े ताजा अपडेट के लिए हमें पर लाइक और पर फॉलो करें।
  • Web Title:Educate children in a digital way Surendra Singh