Due to the dreams of the unemployed in Shahjahanpur - शाहजहांपुर के बेरोजगारों के सपनों पर धूल जम गई DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

शाहजहांपुर के बेरोजगारों के सपनों पर धूल जम गई

शाहजहांपुर के बेरोजगारों के सपनों पर धूल जम गई

2014 में केंद्र में नई सरकार बनीं। लोगों को उम्मीद थी कि बेरोजगारों के लिए कुछ बड़े कदम उठाए जाएंगे, लेकिन समय अपनी पूरी रफ्तार के साथ तेजी से निकल गया। पांच साल में नेता जी ने पढ़े-लिखे बेरोजगारों की रत्ती भर फिक्र नहीं की है। पिछले दो साल के आंकड़ों पर नजर डालें तो मात्र 1420 युवाओं को विभिन्न कंपनियों में नौकरी मिल पाई। जबकि, 24 हजार से अधिक बेरोजगारों ने अपना ऑनलाइन पंजीकरण सेवा योजन कार्यालय में करा रखा है।

रोजगार देने का वादा करने वाले नेताओं के लिए सेवायोजन कार्यालय के आंकड़े तमाचा हैं। शहर से लेकर ग्रामीण तक के युवाओं ने कार्यालय में अपना पंजीकरण करा रखा है, लेकिन उन्हें रोजगार के लिए इंतजार करना पड़ रहा है। उनका इंतजार साल-दर-साल निकलता जा रहा है। नौकरी न मिलने की वजह से उनके सपनों पर धूल जम गई। खास बात यह है कि बेरोजगारों की लिस्ट इतनी लंबी है कि रोजगार मेला लगाने वाले गिने-चुने लोगों को चयनित कर वापस हो जाते हैं।

साल 2017-18 के आंकड़ों पर नजर डालें तो 55 कंपनियों ने शाहजहांपुर के सेवा योजन कार्यालय में इंट्री पाई। दो साल में मात्र 17 मेले लग सके, जिसमें 4082 बेरोजगार शामिल हुए ओर 1420 लोगों को नौकरी मिल सकी। सेवा योजन अधिकारी की मानें तो दो साल में 7524 लोगों ने पंजीकरण कराया। कुल पंजीकरण की संख्या 24 हजार 459 है।

ऑनलाइन मांगे जाते हैं पंजीकरण

सेवा योजन कार्यालय में रजिस्ट्रेशन कराने के लिए ऑनलाइन आवेदन करना होता है। पंजीकरण होने के बाद मेला लगने पर ऑनलाइन मैसेज आवेदकों तक पहुंचते हैं। हालांकि, आवेदक भी अपनी प्रोफाइल को खोलकर देख सकते हैं।

वर्ष 2017

10 बार मेले लगाए गए।

21 कंपनियों ने मेले में हिस्सा लिया।

1326 आवेदक मेले में शामिल हुए

356 आवेदकों को चयनित किया गया।

वर्ष 2018

07 मेले लगाए गए थे।

34 कंपनियों ने मेला लगाए

2756 आवेदक पहुंचे थे।

1064 आवेदकों को चयनित किया।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Due to the dreams of the unemployed in Shahjahanpur