Dashratha s son born with effect from Kheer - पुत्रेष्टि यज्ञ से प्राप्त खीर से प्रभाव से जन्में दशरथ पुत्र DA Image
16 नबम्बर, 2019|6:55|IST

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

पुत्रेष्टि यज्ञ से प्राप्त खीर से प्रभाव से जन्में दशरथ पुत्र

पुत्रेष्टि यज्ञ से प्राप्त खीर से प्रभाव से जन्में दशरथ पुत्र

सिकंदरपुर कलां गांव के प्राचीन ढीपा तालाब में श्रीराम कथा का आयोजन किया जा रहा है। कथा के दूसरे दिन व्यास योगेश दीक्षित ने श्रीरामजन्म का प्रसंग सुनाया। इस दौरान श्रद्धालु कथा सुन भावविभोर हो गए। व्यास ने कहा कि श्रीराम कथा अतीत की घटनाओं पर आधारित समाज के लिए वर्तमान का दर्पण है।

श्रीराम कथा व्यक्ति को जीना सिखाती है। अयोध्या में महाराज दशरथ के यहां श्रृंगी ऋषि ने पुत्रेष्टि यज्ञ किया, जिससे प्राप्त खीर को उन्हों ने राजा दशरथ को दिया। खीर के प्रभाव से दशरथ के चार पुत्र हुए। व्यास ने कहा कि जिसने अपनी दसों इंद्रियों को वश में कर रखा है, वही दशरथ है और जहां कभी युद्ध और किसी का वध न हुआ हो, वही अयोध्या और अवध है।

भगवान के राम के जन्म की सूचना पूरे अयोध्या में खुशियां मनाई गईं। भगवान राम के अपने भाइयों के साथ अनेक बाल लीलाएं करने का प्रसंग भी सुनाया गया, जिसको सुनकर श्रद्धालु भावविभोर हो गए। इस मौके पर सेठपाल सिंह, अंगने गुप्ता, ओमप्रकाश दीक्षित, राजेश, सत्यप्रकाश, मदन पाल सिंह, प्रदीप, ध्यानपाल सिंह, राजा सिंह, राजवीर सिंह, रमेश सिंह, दुर्गेश सिंह, प्रेमपाल सिंह आदि मौजूद रहे।

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title: Dashratha s son born with effect from Kheer