DA Image

अगली स्टोरी

class="fa fa-bell">ब्रेकिंग:

जैतीपुर सीएचसी को ही है इलाज की जरूरत

जैतीपुर सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में मौसमी बीमारियों की दवाओं का टोटा है। महिला चिकित्सक भी नहीं है। गंभीर महिला रोगियों को अस्पताल से रेफर कर दिया जाता है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर पिछले एक सप्ताह से मौसमी बीमारियों जैसे उल्टी, दस्त, बुखार आदि के मरीज काफी संख्या में पहुंच रहे हैं, लेकिन अस्पताल में दवाओं का टोटा रहता है। मरीजों को बाहर से दवाएं खरीदनी पड़ती हैं। गरीब तबके के रोगी लौट जाते हैं। अधिकतर मरीज निजी चिकित्सकों की शरण में जाने को विवश हो रहे हैं।

अस्पताल में महिला डॉक्टर पिछले काफी समय से नहीं है, इस कारण महिला रोगियों को जिला मुख्यालय रेफर कर दिया जाता है। इससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। इसके अलावा चार वार्ड ब्याय के स्थान पर एक से ही काम चलाया जा रहा है। सफाई कर्मचारी भी एक ही है। नेत्र चिकित्सक की नियुक्ति है, लेकिन वह कब आते हैं, किसी को पता नहीं रहता। डॉक्टर अरुण यादव ने बताया कि स्टाफ की कमी होने की जानकारी जिला प्रशासन को दी जा चुकी है। जल्द ही स्टाफ की कमी दूर हो जाएगी। इसके साथ ही दवा की डिमांड भी समय समय पर की जाती है। उपलब्ध सुविधाओं से मरीजों का समुचित इलाज किया जाता है।\\

  • Hindi Newsसे जुडी अन्य ख़बरों की जानकारी के लिए हमें पर ज्वाइन करें और पर फॉलो करें
  • Web Title:CHC needs medicines and doctor