DA Image
हिंदी न्यूज़   ›   उत्तर प्रदेश  ›  शाहजहांपुर  ›  बहना ने भाई की कलाई पर बांधा रक्षासूत्र, लिया रक्षा का वचन

शाहजहांपुरबहना ने भाई की कलाई पर बांधा रक्षासूत्र, लिया रक्षा का वचन

हिन्दुस्तान टीम,शाहजहांपुरPublished By: Newswrap
Sat, 17 Aug 2019 02:26 AM
बहन और भाई के प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और उनसे अपनी रक्षा का वचन लिया, तो भाइयों ने भी अपनी बहना को उसकी पसंद का उपहार...
1 / 2बहन और भाई के प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और उनसे अपनी रक्षा का वचन लिया, तो भाइयों ने भी अपनी बहना को उसकी पसंद का उपहार...
बहन और भाई के प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और उनसे अपनी रक्षा का वचन लिया, तो भाइयों ने भी अपनी बहना को उसकी पसंद का उपहार...
2 / 2बहन और भाई के प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और उनसे अपनी रक्षा का वचन लिया, तो भाइयों ने भी अपनी बहना को उसकी पसंद का उपहार...

बहन और भाई के प्यार का प्रतीक रक्षाबंधन का त्योहार परंपरागत तरीके से मनाया गया। बहनों ने अपने भाई की कलाई पर राखी बांधी और उनसे अपनी रक्षा का वचन लिया, तो भाइयों ने भी अपनी बहना को उसकी पसंद का उपहार देकर आशीर्वाद लिया।

श्रावण मास की पूर्णिमा पर बहने अपने भाइयों की कलाई पर राखी बांधती है, लेकिन इस बार रक्षाबंधन और देश की आजादी का पर्व स्वतंत्रता दिवस एक ही दिन पड़ने से कुछ ज्यादा ही खास हो गया। स्वतंत्रता दिवस के साथ रक्षाबंधन का त्योहार मनाने को लेकर लोगों में काफी उत्साह दिखा। खासकर छोटे-छोटे बच्चों में उत्साह चरम पर रहा। बहनों ने राखी बांधकर भाइयों से रक्षा का वचन लिया और उनके दीर्घायु होने की कामना की। इसके साथ ही घरों पर पकवान बनाए गए। रक्षाबंधन वाले दिन बाजारों में राखी की दुकानों पर खरीदारी करने के लिए बहने उमड़ी, तो मिठाई की दुकानों पर खासी भीड़ रही। रक्षाबंधन के त्योहार को लेकर दूर-दराज रहने वाले भाईयों ने बहनों के घर पहुंच राखी बंधवाई। वही ससुराल में रहने वाली बहने राखी बांधने अपनी मायके पहुंची। जिसको लेकर बसों, ट्रेनों में खूब भीड़ रही। जिसमें चढ़ने के लिए बहनों को काफी मशक्कत भी करनी पड़ी।

जेल में बंद भाई को राखी बांधते भर आई आंखें

कई बहने रक्षाबंधन पर जेल में बंद अपने भाइयों को राखी बांधने पहुंची। राखी बांधने पहुंची बहन को देख जेल में बंद भाइयों में प्यार उमड़ आया। अपनी बहन को देख उसे अपनी बाहों में भर लिया। राखी बांधते समय भाई और बहन की आंखे भर आई। किसी तरह दोनों ने एक-दूसरे को संभाला। इस बीच जेल में बंद भाई अपनी बहन को कोई उपहार तो नहीं दे सके, लेकिन अपना आर्शीवाद दिया। जेल अधीक्षक राकेश कुमार ने बताया कि रक्षाबंधन पर जेल में बंद भाई को राखी बांधने के लिए बहनों का आना सुबह से ही शुरू हो गया था। सभी को एक-एक कर जेल के अंदर जाकर भाई को राखी बांधने का मौका दिया गया।

संबंधित खबरें